करेंसी ट्रेड

क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है?

क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है?
टोकनोमिक्स के बारे में अधिक जानने के लिए , विभिन्न प्रकार के टोकन के बारे में जानना महत्वपूर्ण है। वर्गीकरणों में से एक टोकन को दो प्रकारों में विभाजित करता है : लेयर 1 और लेयर 2 ।

bitcoins 650

टोकनोमिक्स की व्याख्या क्या है: टोकनोमिक्स 101

हिंदी

2020 के बाद से , क्रिप्टोकरेंसी की बढ़ती लोकप्रियता बहुत प्रमुख रही है। बहुत सारे निवेशकों को क्रिप्टोक्यूरेंसी में रुचि रखने के साथ , टोकनोमिक्स पर एक संक्षिप्त अवलोकन बहुत से लोगों को लाभान्वित कर सकता है। तो यहाँ सभी नए निवेशकों के लिए टोकनोमिक्स 101 है जो क्रिप्टोक्यूरेंसी के दायरे में आ रहे हैं।

टोकनॉमिक्स क्या है?

‘ टोकनॉमिक्स ‘ शब्द एक पोर्टमैंट्यू (सूटकेस) है , जो दो शब्दों से बना है : टोकन और अर्थशास्त्र। इसीलिए , टोकनॉमिक्स मूल रूप से टोकन क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है? अर्थशास्त्र या क्रिप्टो अर्थशास्त्र है। यह एक क्रिप्टो टोकन के अर्थशास्त्र का अध्ययन है – इसके गुणों से लेकर इसके वितरण और उत्पादन तक , और भी बहुत कुछ।

एक टोकन क्या होता है?

टोकेनॉमिक्स में , क्रिप्टो टोकन ( या बस टोकन ) मूल्य की इकाइयां हैं जो ब्लॉकचैन – आधारित परियोजनाएं मौजूदा ब्लॉकचेन के शीर्ष पर बनाती हैं। क्रिप्टो टोकन , जैसे क्रिप्टोक्यूरेंसी , का आदान – प्रदान किया जा सकता है और एक निश्चित मूल्य रखता है लेकिन वे पूरी तरह से अलग डिजिटल संपत्ति वर्ग हैं।

Shiba Inu की कीमत में गिरावट, ETH व्हेल्स ने खरीदे 1.6 लाख करोड़ SHIB

भारतीय एक्सचेंज कॉइनस्विच कुबेर पर शिबा इनु की कीमत ₹ 0.000977 पर ट्रेड कर रही है जो कि पिछले 24 घंटों में 3.75% की गिरावट है.

पिछले कुछ वर्षों में Nicholas ने बिटकॉइन को लेकर प्रतिकूल रवैया रखा है. उन्होंने मार्च में कहा था कि अगर बिटकॉइन एक लाख डॉलर पर भी पहुंचता है तो भी यह एक नाकामी होगी

Crypto एक्सचेंज ने 68 डॉलर रिफंड के बजाए कस्टमर को दिए 72 लाख डॉलर

इस मामले में कस्टमर ने एक्सचेंज को गलत रिफंड की सूचना देने के बजाय एक ज्वाइंट एकाउंट में रकम ट्रांसफर कर दी थी और अपनी बहन के लिए एक लग्जरी अपार्टमेंट खरीदने पर लगभग नौ लाख डॉलर क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है? खर्च किए थे

पिछले महीने उन्होंने क्रिप्टो को सट्टेबाजी का आखिरी गढ़ बताया था. उनका कहना था कि अमेरिकी फेडरल रिजर्व इस सेगमेंट की कुर्बानी दे सकता है

ईरान में ट्रेडर्स इम्पोर्ट के लिए कर सकेंगे क्रिप्टोकरेंसी का इस्तेमाल

ईरान के कारोबारी व्हीकल्स और अन्य गुड्स के इम्पोर्ट के लिए डॉलर या यूरो में भुगतान के बजाय क्रिप्टोकरेंसीज का इस्तेमाल कर सकेंगे। अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों के कारण ग्लोबल बैंकिंग सिस्टम से ईरान बाहर है

ग्‍लोबल एक्सचेंजों पर बिटकॉइन की कीमत 20,406 डॉलर (लगभग 16.3 लाख रुपये) है.

टोकनोमिक्स की व्याख्या क्या है: टोकनोमिक्स 101

हिंदी

2020 के बाद से , क्रिप्टोकरेंसी की बढ़ती लोकप्रियता बहुत प्रमुख रही है। बहुत सारे निवेशकों को क्रिप्टोक्यूरेंसी में रुचि रखने के साथ , टोकनोमिक्स पर एक संक्षिप्त अवलोकन बहुत से लोगों को क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है? लाभान्वित कर सकता है। तो यहाँ सभी नए निवेशकों के लिए टोकनोमिक्स 101 है जो क्रिप्टोक्यूरेंसी के दायरे में आ रहे हैं।

टोकनॉमिक्स क्या है?

‘ टोकनॉमिक्स ‘ शब्द एक पोर्टमैंट्यू (सूटकेस) है , जो दो शब्दों से बना है : टोकन और अर्थशास्त्र। इसीलिए , टोकनॉमिक्स मूल रूप से टोकन अर्थशास्त्र या क्रिप्टो अर्थशास्त्र है। यह एक क्रिप्टो टोकन के अर्थशास्त्र का अध्ययन है – इसके गुणों से लेकर इसके वितरण और उत्पादन तक , और भी बहुत कुछ।

एक टोकन क्या होता है?

टोकेनॉमिक्स में , क्रिप्टो टोकन ( या बस टोकन ) मूल्य की इकाइयां हैं जो ब्लॉकचैन – आधारित परियोजनाएं मौजूदा ब्लॉकचेन के शीर्ष पर बनाती हैं। क्रिप्टो टोकन , जैसे क्रिप्टोक्यूरेंसी , का आदान – प्रदान किया जा सकता है और एक निश्चित मूल्य रखता है लेकिन वे पूरी तरह से अलग डिजिटल संपत्ति वर्ग हैं।

कौन कर सकता है ट्रेडिंग?

ऐसे लोग जो कंप्यूटर या टेक सैवी नहीं हैं, वो कैसे क्रिप्टो निवेश की दुनिया में प्रवेश कर सकते हैं? ऐसा जरूरी नहीं है कि हर निवेशक क्रिप्टो माइनिंग करता है. अधिकतर निवेशक बाजार में पहले से मौजूद कॉइन्स या टोकन्स में ट्रेडिंग करते क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है? हैं. क्रिप्टो इन्वेस्टर बनने के लिए माइनर बनना जरूरी नहीं है. आप असली पैसों से एक्सचेंज पर मौजूद हजारों कॉइन्स और टोकन्स में से कोई भी खरीद सकते हैं. भारत में ऐसे बहुत सारे एक्सचेंज हैं तो कम फीस या कमीशन में ये सुविधा देते हैं. लेकिन यह जानना जरूरी है कि क्रिप्टो में निवेश जोखिम भरा है और मार्केट कभी-कभी जबरदस्त उतार-चढ़ाव देखता है. इसलिए फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स निवेशकों से एक ही बार में बाजार में क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है? पूरी तरह घुसने की बजाय रिस्क को झेलने की क्षमता रखने की सलाह देते हैं.

यह समझना भी जरूरी है कि सिक्योर इन्वेस्टमेंट, सेफ इन्वेस्टमेंट नहीं होता है. यानी कि आपका निवेश ब्लॉकचेन में तो सुरक्षित रहेगा लेकिन बाजार में उतार-चढ़ाव का असर इसपर होगा ही होगा, इसलिए निवेशकों को पैसा लगाने से पहले जरूरी रिसर्च करना चाहिए.

क्रिप्टोकरेंसी क्या है और कैसे काम करती है (What is Cryptocurrency and How it Works ?)

आसान भाषा में कहें तो क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) एक डिजिटल कैश (Digital Money) प्रणाली है क्रिप्टोकरेंसी का मुख्य कार्य होता हैं एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में पैसे ट्रांसफर करना, और यह कार्य किया जाता हैं, ब्लॉकचैन के माध्यम से.

ब्लॉकचैन डिस्ट्रिब्यूटेड लेजर टेक्नोलॉजी ( DLT ) का उपयोग करती हैं ताकि सिस्टम से तीसरे पक्ष को हटाया जा सकें. इसका मतलब यह है कि जिस तरह से जब हम किसी के साथ लेनदेन करते हैं तो बीच में कुछ न कुछ तृतीय पक्ष होती हैं जो इस लेनदेन को पूरा करने में सहायक होती हैं लेकिन इसमें ऐसा क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है? नहीं होता हैं. क्रिप्टोकरेंसी के लेनदेन में जिस टेक्नोलॉजी क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है? का उपयोग किया जाता हैं, यह टेक्नोलॉजी को ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी कहा जाता है. दरअसल ब्लॉकचैन हर लेनदेन का एक डेटाबेस हैं इसमें जो लेनदेन किये जाते हैं उसकी जानकारी ब्लॉक के रूप में होती हैं और फिर ये ब्लॉक्स एक – एक करके डेटाबेस के साथ जुड़कर एक लंबी श्रंखला बना देते हैं. यही ब्लॉकचैन होती हैं.

रेटिंग: 4.22
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 232
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *