बाइनरी ऑप्शन टिप्स

मुक्त व्यापार क्षेत्र

मुक्त व्यापार क्षेत्र

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने भारत के साथ मुक्‍त व्‍यापार समझौते की प्रतिबद्धता दोहरायी

ब्रिटेन ,30 नवंबर। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने मुक्‍त व्‍यापार समझौते-एफटीए में अपने देश की वचनबद्धता दोहराई है, जिसमें भारत-प्रशांत क्षेत्र के साथ सम्‍बन्‍ध बढ़ाने पर विशेष ध्‍यान केन्द्रित करने के लिए भारत शामिल होगा। लॉर्ड मेयर ऑफ लंदन बैंक्‍वेट में ब्रिटेन की विदेश नीति पर कल श्री सुनक ने व्‍याख्‍यान दिया। उन्‍होंने अपनी विरासत का उल्‍लेख करते हुए विश्‍वभर में ब्रिटेन के स्‍वतंत्रता और खुलेपन के मूल्‍यों को बढ़ावा देने की प्रतिबद्धता व्‍यक्‍त की।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने चीन के साथ अलग तरह से काम करने का संकल्‍प व्‍यक्‍त किया। उन्‍होंने कहा कि चीन ब्रिटेन के मूल्‍यों और हितों के समक्ष चुनौती बना हुआ है। श्री सुनक ने कहा कि भारत-प्रशांत 2050 तक विकास में आधे से अधिक योगदान देगा, जबकि यूरोप और उत्‍तर अमरीका दोनों, विश्‍व के विकास में एक-एक चौथाई का योगदान देंगे। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत प्रशांत के अनुकूल पहलुओं पर विचार करते हुए ब्रिटेन ट्रांस-पेसिफिक व्‍यापार समझौते, सीपीटीपीई में शामिल हो रहा है और भारत के साथ नया मुक्‍त व्‍यापार समझौता कर रहा है और इंडोनेशिया के साथ ऐसे समझौते पर विचार कर रहा है। श्री सुनक ने इस बात की मुक्त व्यापार क्षेत्र पुष्टि की कि ब्रिटेन की विदेश नीति से सम्‍बन्धित और विवरण नए वर्ष में अद्यतन समेकित समीक्षा में शामिल होगा जिसमें राष्‍ट्रमंडल के साथ निकट सहयोग का उल्‍लेख भी होगा।

भारत के साथ मुक्त व्यापार संधि के लिए ब्रिटेन प्रतिबद्ध

लंदन, 29 नवंबर . ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने भारत और ब्रिटेन के बीच मुक्त व्यापार संधि (एफटीए) की प्रतिबद्धता दोहराई है. इस संधि से दोनों देशों की अर्थव्यवस्थ को आगे बढ़ने में मदद मिलेगी.

सुनक ने कहा कि हिंद प्रशांत क्षेत्र के साथ संबंधों को बढ़ाने के लिए हम पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं. भारत के साथ इस संधि करने पर ब्रिटेन विचार मुक्त व्यापार क्षेत्र कर रहा हैं. सुनक ने पिछले महीने 10 डाउनिंग स्ट्रीट में पदभार ग्रहण करने के बाद विदेश नीति पर दिए पहले भाषण में इसका जिक्र मुक्त व्यापार क्षेत्र किया.

उन्होंने 28 नवंबर को लंदन के लॉर्ड मेयर के औपचारिक भोज में यह भाषण दिया. सुनक ने कहा कि दुनिया भर में स्वतंत्रता और खुलेपन के मूल्यों को बढ़ावा देने के लिए ब्रिटेन प्रतिबद्ध हैं.

भारत और जीसीसी मुक्त व्यापार समझौता वार्ता को दोबारा आगे बढ़ाने पर सहमत

भारत और जीसीसी मुक्त व्यापार समझौता वार्ता को दोबारा आगे बढ़ाने पर सहमत

नई मुक्त व्यापार क्षेत्र दिल्ली (New Delhi), 25 नवंबर . केंद्रीय वाणिज्य मुक्त व्यापार क्षेत्र एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि भारत और खाड़ी सहयोग परिषद (जीसीसी) के बीच मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) को आगे बढ़ाने पर मुक्त व्यापार क्षेत्र सहमति बन गई है. उन्होंने कहा कि इस संबंध में दोनों क्षेत्रों के बीच बातचीत फिर से शुरू की जाएगी.

पीयूष गोयल और जीसीसी के महासचिव महामहिम डॉ. नायफ फलह एम. अल-हजरफ ने गुरुवार (Thursday) को यहां एक संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में इंडिया-जीसीसी एफटीए पर चर्चा करने का इरादा व्यक्त किया. मंत्रालय के मुताबिक दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हुए कि एफटीए वार्ता को औपचारिक रूप से दोबारा शुरू करने के लिए सभी कानूनी व तकनीकी आवश्यकताओं को जल्द से जल्द पूरा कर लिया जाए. एफटीए एक आधुनिक और समग्र समझौता है, जिसके दायरे में माल और सेवाओं को रखा गया है. दोनों पक्षों ने कहा कि एफटीए से नए रोजगार पैदा होंगे. इससे भारत तथा जीसीसी देशों में सामाजिक व आर्थिक अवसरों को विस्तार मिलेगा.

जीसीसी खाड़ी क्षेत्र के छह प्रमुख देशों सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, कतर, कुवैत, ओमान और बहरीन का एक संघ है. जीसीसी इस समय भारत का सबसे बड़ा कारोबारी साझीदार है. वित्त वर्ष 2021-22 में इनके बीच होने वाला द्विपक्षीय व्यापार 154 अरब यूएसडी था, जिसमें निर्यात करीब 44 अरब यूएसडी और आयात लगभग 110 अरब यूएसडी (33.8 अरब का गैर-तेल निर्यात और 37.2 अरब यूएसडी गैर-तेल आयात) था. भारत में जीसीसी का निवेश इस समय 18 अरब यूएसडी से अधिक का है.

रेटिंग: 4.84
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 668
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *