सीएफडी पर कमाई

पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है

पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है
Zee Business हिंदी 8 घंटे पहले ज़ीबिज़ वेब टीम

शेयर बाजार में नुकसान से बचने केे टिप्स | कभी नुकसान नहीं होगा

नमस्कार डियर पाठक आज के लेख में हम जानेंगे शेयर बाजार में नुकसान से बचने केे टिप्स, किस प्रकार आप ट्रेडिंग में कुछ बातों का ध्यान रखकर स्टॉक मार्केट में लॉस करने से बच सकते हैं, क्योंकि अगर आपको लॉन्ग टर्म पैसा बनाना है तो सबसे पहले आपको पैसा बचाना सीखना होगा।

क्योंकि स्टॉक मार्केट में ज्यादातर यह देखने को मिलता है, कि जो भी नए निवेशक आते हैं वह सबसे पहले काम ही यही करते हैं, पैसा लॉस करने का लेकिन आज के इस लेख को पढ़ने के बाद यह तो पक्का है कि आप स्टॉक मार्केट में ज्यादा पैसा लॉस नहीं करोगे ऐसा नहीं है कि मार्केट फीस नहीं लेता है।

लेकिन आप जानबूझकर गलती नहीं करोगे लेकिन आपको पहले इस लेख को पूरा पढ़ना होगा क्योंकि तभी आप सीख पाएंगे कि मार्केट में आपको क्या गलती नहीं करनी है जिससे आपके पैसे बर्बाद नहीं हो। तो चलिए जानते हैं शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स के बारे में जिनको फॉलो करके आप मार्केट में बेहतर प्रदर्शन कर पाएंगे।

स्टॉक मार्केट में नुकसान से बचने के टिप्स (पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है Stock Market Tips)

शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स :- चाहे कोई सी भी फील्ड हो अगर वहां पर रणनीति नहीं है, तो उस फील्ड का कोई मतलब नहीं है। ठीक उसी प्रकार अगर आप शेयर मार्केट में रणनीति के हिसाब से नहीं चलोगे तो आपका मार्केट में कोई अस्तित्व नहीं रहेगा, इसलिए अपनी रणनीति में नीचे दिए गए टिप्स को फॉलो कीजिए ताकि आपको मार्केट में कम से कम लॉस हो।

1, एनालिसिस करना (होमवर्क करना)

डियर पाठक शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स में सबसे पहली बात यह है कि आप जब भी कोई स्टॉक खरीदें या किसी कंपनी का स्टॉक खरीदने जा रहे हैं या फिर आप निफ्टी या बैंक निफ्टी में ट्रेड करना चाहते हैं, तो भी आपको रिसर्च करना बहुत जरूरी है। रिसर्च में आती है जैसे कंपनी के फंडामेंटल जिसमें कंपनी की बैलेंस शीट फाइनेंशियल स्टेटमेंट कंपनी की क्या ग्रोथ रेट है कंपनी इन फ्यूचर कैसा प्रदर्शन कर सकती है।

क्या यह सेक्टर आगे बढ़ाने वाला है और बहुत कुछ अगर आप इंट्राडे ट्रेडिंग करते हैं या करना चाहते हैं तो भी आपको होमवर्क की आवश्यकता होगी क्योंकि बिना रिसर्च किए अंधेरे में तीर चलाने जैसा कार्य है। अगर आप रिसर्च करके ट्रेडिंग करते हैं तो आपको कामयाब होने से कोई नहीं रोक सकता

क्योंकि यह रिसर्च करने से चीजें आसान हो जाती है कि आपको कहां पर ट्रेड लेना है किस सेक्टर में लेना है और चार्ट को समझना बेहद जरूरी है,‌ इस नियम को फॉलो करेंगे तो नुकसान लगभग न के बराबर होगा अगर आप फंडामेंटल एनालिसिस और टेक्निकल एनालिसिस वह चार्ट के बारे में तीन नीचे दिए गए लेख के माध्यम से समझ सकते हैं–

2, धीरे-धीरे और थोड़ी मात्रा में निवेश से शुरू करें

स्टॉक मार्केट में पेशेंस बहुत मायने रखता है। आप यहां पर एकदम अपना सारा पैसा नहीं लगाए आपको यहां पर सीखने के साथ में थोड़ा-थोड़ा निवेश करना है, चाहे कोई सा भी सेक्टर हो एक साथ निवेश करना समझदारी वाली बात नहीं है, क्योंकि अगर आप एक साथ निवेश कर देते हैं और किसी कारणवश कंपनी का स्टॉक डाउन चला गया तो आपकी तो पूरी पूंजी चली जाएगी।

इसलिए एक्सपर्ट लोगों का कहना है कि मार्केट में कभी भी एक सेक्टर में एक साथ निवेश नहीं करें, जब भी आप निवेश करें छोटी छोटी मात्रा में निवेश करें इससे आपके द्वारा खरीदी हुई स्टॉक प्राइस हमेशा मेंटेन रहेगी जिससे आपको लगभग ना के बराबर नुकसान होने के चांस है। और अगर आप इस टिप्स को फॉलो करते हैं तो भविष्य में बेहतरीन प्रॉफिट कमा सकते हैं।

3, भेड़ चाल से दूरी रखें न्यूज़ और बड़े निवेशकों को देखकर नहीं खरीदें स्टॉक्स

शेयर मार्केट में ज्यादा लॉस करने का कारण यही चीज बनती है कि लोग खुद पर भरोसा पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है नहीं करके लोगों के भरोसे रहते हैं कि कहीं से कुछ जुगाड़ हो जाए, फिर वह क्या करते हैं टीवी पर देखते हैं या फिर किसी न्यूज़ को देखते हैं कि फला स्टॉक यहां से यहां तक जाने वाला है, तो उसी में घुस जाते हैं रिसर्च नहीं करते और फिर कहते हैं लॉस हो गया इसलिए आप न्यूज़ के भरोसे कतई नहीं रहे हां अप टू डेट जरूर रहे।

अब इसी में दूसरी बात यह है कि कोई बड़ा निवेशक किसी कंपनी में हिस्सेदारी खरीद रहा है, तो सब लोग उसे देखते हुए उस स्टॉक में घुस जाएंगे आपको ऐसा बिल्कुल नहीं करना वरना आप बहुत पछताएंगे बड़ा निवेशक बड़ी पूंजी निवेश करता है उसे जरा सा भी बेनिफिट हुआ वह निकल सकता है। और आपको पता भी नहीं चलेगा और जब तक चलेगा कंपनी में आपको लॉस हो चुका होगा।

और वह एक्सपीरियंस वाले लोग हैं, और मार्केट में उनका एक्सपीरियंस बोलता है, आप उनके एक्सपीरियंस का इस्तेमाल मत कीजिए अपना एक्सपीरियंस बनाइए और हमारी शुभकामना है भविष्य में आप भी बड़े निवेशक बने इसीलिए किसी के पीछे नहीं चले बल्कि अपनी रणनीति बनाएं।

4, डायवर्सिफिकेशन न करना

नुकसान से बचने का चौथा टिप्स यह है डायवर्सिफिकेशन यह इन्वेस्टमेंट के मूल सिद्धांतों में से एक है क्योंकि डायवर्सिफिकेशन से आपके पोर्टफोलियो में स्थिरता आती है और डायवर्सिफिकेशन से मंदी के दौरान आपका प्रॉफिट खत्म होने से बचाने का एकमात्र तरीका है क्योंकि मार्केट हर सेक्टर को अलग-अलग प्रकार से इफ़ेक्ट करता है।

और डायवर्सिफिकेशन वोलेटाइल मार्केट में निवेशकों की लैंडिंग को इजी करता है। हालांकि स्टॉक मार्केट में यह जानना थोड़ा मुश्किल है कि निवेश करने का अच्छा समय कौनसा है। स्टॉक की किमतो का आकलन करना भी थोड़ा मुश्किल कार्य है। क्योंकि बहुत सारे लोग स्टॉक मार्केट को समय तो देना चाहते हैं लेकिन किसी वजह से ऐसा नहीं कर पाते इसलिए उनको लगता है कि फला स्टॉक इन फ्यूचर अच्छा ग्रोथ करेगा इस उम्मीद से वह उसमें निवेश कर देते हैं और उम्मीद के भरोसे अपनी पूरी पूंजी का लॉस कर बैठते हैं।

हालांकि ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जो निवेश के समय गलतियां नहीं करता है, लेकिन इंपॉर्टेंट बात यह है कि हमको उन गलतियों से सीख लेना आवश्यक है और फ्यूचर में उन गलतियों को दोहराना नहीं है।

5, अनुशासन की कमी

शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स में यह पांचवा टिप्स है, बाजार में अनुशासन रखना बहुत जरूरी है अनुशासन की कमी हर जगह आपको मुसीबत में डाल सकती है और नुकसान पहुंचा सकती है स्टॉक मार्केट में अपने लक्ष्यों और जोखिम उठाने की क्षमता को ध्यान में रखें बिना निवेश करना आपको थोड़ा महंगा पड़ सकता है बाजार में उतार चढ़ाव आने पर जल्दबाजी करना सही नहीं है आपको थोड़ा पेशेंस रखना होगा।

अगर लॉस हो भी गया तो आपको मार्केट से लड़ना नहीं है क्योंकि नए लोग जब आते हैं तो लॉस होने पर वह बार-बार ट्रेड करते हैं जिस कारण वह दलदल में फंसते ही जाते हैं। इसलिए आपको अपना नियम रखना चाहिए कि बस इतना मिल गया या इतना चला गया अब मुझे मार्केट है फाइट नहीं करनी है।

6, लालच नहीं करें

जब आपको आप का टारगेट मिल जाता है तो ओवरकॉन्फिडेंस में या लालच में नहीं रहे, आपको जितना चाहिए उतना मिल गया बस काफी बार निकल जाइए उसी स्टॉक से क्योंकि हमने देखा है, मार्केट में लोग जब प्रॉफिट होता है तो उन्हें लगता है कि यहां तक आया तो थोड़ा और जाएगा और थोड़ा और जाने के बदले में थोड़ा सा ऊपर जाकर नीचे आ जाता है।

जिस कारण वह एग्जिट कर ही नहीं पाते हैं और फिर लॉस में बाहर निकलते हैं, इसलिए अपना माइंड क्लियर रखें कि मेरा टारगेट हिट हो गया अब चाहे मार्केट कितना भी ऊपर जाए मुझे इससे कोई लेना देना नहीं है। और थोड़ा एडवांस जाने के लिए आप ट्रिगर प्राइस का इस्तेमाल कर सकते हैं।

7, स्टॉप लॉस जरूर लगाएं

आपका माइंड बिल्कुल क्लियर रहना चाहिए कि मैं इतना उठा सकता/सकती हूं, तो आप वहां पर स्टॉपलॉस लगाएं कि अगर मार्केट इससे नीचे गया तो आप का रिस्क मैनेज जाएगा और

आप ऑटोमेटिकली उससे बाहर हो जाएंगे लेकिन अगर आपकी रिसर्च कहती हैं कि आज ही ऊपर जाने के मूड में है तो आप स्टॉपलॉस को थोड़ा सा ऊपर नीचे कर सकते हैं, और अगर आपका प्रॉफिट आज की डेट में बढ़ रहा है तो आप अपने स्टॉप लॉस को मैनेज करते जाइए इससे रिस्क मैनेजमेंट कर पाएंगे।

निष्कर्ष: शेयर बाजार में नुकसान से बचने केे टिप्स

डियर पाठक अगर आप स्टॉक मार्केट में पैसा बनाना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले अनुशासन और एक क्लियर माइंडसेट रखना होगा और मार्केट को समझना होगा और सीखना होगा। यहां पर आप किसी के भरोसे या किसी टिप्स के तौर पर नहीं आए क्योंकि कई सारे लोग कॉल करके ट्रेड देते हैं, या कोई लाइव ट्रेड करवाता है तो आप उन लोगों के भरोसे बिल्कुल ना रहे यह मार्केट में आप को सबसे ज्यादा दलदल में धकेलने का कार्य करते हैं।

आपको अपनी काबिलियत मजबूत करनी है यहां पर आप जितना दूसरों के भरोसे रहोगे इतना ज्यादा घाटे में रहोगे इसलिए शुरुआत भले ही थोड़ी हो लेकिन अपने दम पर हो।

आशा करते हैं आजकल एक शेयर बाजार में नुकसान से बचने केे टिप्स बहुत ही नॉलेजेबल साबित हुआ होगा आप अपने ट्रेडिंग करियर में इन टिप्स को फॉलो कीजिए और अपने नुकसान को थोड़ा कम कीजिए।

Portfolio kaise banaye | अपना पोर्टफोलियो कैसे बनाये

Portfolio kaise banaye– इन्वेस्टमेंट में पैसे से पैसा कमाई करना है तो एक सही पोर्टफोलियो होना बहुत जरुरी हैं। आज हम जानेंगे सही तरीके से एक अच्छी अपना पोर्टफोलियो कैसे बनाये जिससे आप लंबे समय में अच्छा मुनाफा कमा सके।

Table of Contents

Portfolio kaise banaye

एक अच्छा पोर्टफोलियो बनाने के लिए आपको केवल एक ही जगह इन्वेस्ट करना उचित नहीं हैं। आपको अलग अलग इन्वेस्टमेंट के जरिया में इन्वेस्ट करना चाहिए। जिससे आपका पोर्टफोलियो स्थिर रहे। और लंबे समय में कितना भी गिरावट क्यों ना आए आपको नुकशान ना हो। एसी ही 3 इन्वेस्टमेंट जरियों के बारे में जानेंगे जिससे एक सही Portfolio बना सके।

  • शेयर मार्केट पोर्टफोलियो
  • Mutual fund पोर्टफोलियो
  • गोल्ड इन्वेस्टमेंट

Stock Market में अपना पोर्टफोलियो कैसे बनाये

स्टॉक मार्केट में अच्छा पोर्टफोलियो बनाना बहुत जरुरी है। क्योंकि यहाँ आपको अच्छा रिटर्न के साथ साथ रिस्क भी ज्यादा होता हैं। रिस्क को कम करने के लिए सही पोर्टफोलियो को सेलेक्ट करना जरुरी हैं।

कितने स्टॉक होना चाहिए:- स्टॉक मार्केट में कितने स्टॉक में इन्वेस्ट करना है ये आपके रिस्क के ऊपर निर्भर करता हैं। कोई भी एक शेयर में आप जब बार बार इन्वेस्ट करते हो`अगर वो शेयर अच्छा रिटर्न दिया तो ठीक नहीं तो बहुत बड़ा नुकशान भी हो चकता हैं। इसलिए आपके पोर्टफोलियो में कम से कम 5 से ज्यादा शेयर होना बहुत जरुरी हैं। और ज्यादा से ज्यादा 30 स्टॉक के ऊपर नहीं होना चाहिए। इसके ऊपर होने से आपको शेयर में निगरानी रखने में प्रॉब्लम होगा।

अलग अलग सेक्टर में निवेश:- समय के हिसाब से अलग अलग सेक्टर अच्छा पदर्शन करते रहते हैं। अगर आप एक ही सेक्टर के शेयर में अपना सारा पैसा लगा देते हो तो लंबे समय में आपको नुकशान भी हो चकता हैं। इसलिए आपको ज्यादा से ज्यादा सेक्टर के शेयर में निवेश करना चाहिए। लेकिन ये बिल्कुल नहीं की जिस सेक्टर के बारे में आप कुछ नहीं जानते उस सेक्टर में इन्वेस्ट करो। आपको जो भी सेक्टर अच्छा लगता है जो भबिस्य में अच्छा पदर्शन कर चकता है एसी ही सेक्टर में इन्वेस्ट करना चाहिए।

एक शेयर में कितना निवेश:- आपको किसी भी शेयर में निवेश करने से पहले जरुर ध्यान देना चाहिए उस स्टॉक में अपना इन्वेस्टमेंट का कुल पैसे के 10% से ज्यादा नहीं होना चाहिए। कितना भी आपको वो शेयर अच्छा लगे इससे ज्यादा आपको एक ही शेयर में बिल्कुल इन्वेस्ट नहीं करना हैं। शेयर बाज़ार में किसी भी समय कुछ भी हो चकता हैं। इसलिए आपको इस बात को जरुर ध्यान देना चाहिए।

पैसो को बिभाजन:- शेयर मार्केट में आपको पैसो को सही तरीके से बिभाजन करना बहुत जरुरी है। आपका पैसा Large cap स्टॉक में 40-50 पतिशत होना चाहिए। इससे आपका पोर्टफोलियो स्थिर और सुरक्षित होगा। 20-30 पतिशत पैसा आपका Mid cap शेयर में जाना चाहिए। और थोड़ा रिस्क के साथ रिटर्न के लिए Small cap स्टॉक में 10-20 पतिशत पैसा इन्वेस्ट करना चाहिए। इससे आपका पोर्टफोलियो अच्छा और मजबूत होगा।

Monitor और Review:- आपके पोर्टफोलियो में जिस भी स्टॉक को रखा हैं। उसको लगातार Monitor और Review करना हैं। आपको देखना चाहिए कंपनी का रिजल्ट, ग्रोथ का संभावना कैसे पदर्शन कर रहा हैं। अगर आपको लगता है कोई शेयर आपके हिसाब से नहीं जा रहा उसके निकलके समय समय पर परिवर्तन करते रहना चाहिए। इससे आपका शेयर मार्केट का पोर्टफोलियो अच्छे होते रहेंगे। और आपको आनेवाले दिनों में अच्छा कमाई करके देगा।

Portfolio-kaise-banaye-अपना-पोर्टफोलियो-कैसे-बनाये

Mutual Fund में Portfolio कैसे बनाये

स्टॉक मार्केट के साथ साथ अपना पैसा का कुछ हिस्सा म्यूच्यूअल फण्ड में भी इन्वेस्ट करना चाहिए। इससे आपका पोर्टफोलियो में रिस्क कम से कम होता हैं। हालाकी म्यूच्यूअल फण्ड का पैसा भी शेयर मार्केट में ही ज्यादा इन्वेस्ट रहता है लेकिन बहुत सारे शेयर में इनवेस्टेड रहता हैं। और फण्ड मेनेगेर उस पैसे को मैनेज करता हैं. इससे आपका रिस्क संतुलन बना रहता हैं। इसलिए आपको शेयर मार्केट के साथ म्यूच्यूअल फण्ड में भी इन्वेस्ट करना चाहिए।

कितने म्यूच्यूअल फण्ड होना चाहिए:- सही म्यूच्यूअल फण्ड पोर्टफोलियो बनाने के लिए आपको ज्यादा फण्ड लेने की कोई भी जरुरत नहीं हैं। अगर आप ज्यादा म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्ट करते हो तो आप एक तरह की फण्ड में इन्वेस्ट कर रहे हो। इससे आप ज्यादा रिटर्न नहीं कमाई कर पाओगे। आपको 3 से 5 Mutual Fund में ही इन्वेस्ट करना चाहिए।

अलग अलग फण्ड में इन्वेस्ट:- आपके रिस्क के हिसाब से अलग अलग फण्ड जैसे Large cap, Mid cap, Small cap और जरुरत है तो Tax saver Fund में अच्छा पोर्टफोलियो बनाने के लिए इनमे निवेश होना बेहतर हैं। अगर आप पोर्टफोलियो को सरल रखना चाहते हो तो इससे अच्छा आप Multi cap फण्ड को भी सेलेक्ट कर सकते हैं। Multi cap में सारे फण्ड के स्टॉक एक साथ ही इनवेस्टेड रहता हैं।

सही पोर्टफोलियो के लिए गोल्ड इन्वेस्टमेंट जरुरी है क्या

गोल्ड इन्वेस्टमेंट को सबसे सुरक्षित माना जाता हैं। म्यूच्यूअल फण्ड और शेयर मार्केट के अलाबा आपका एक छोटा हिस्सा गोल्ड में भी इन्वेस्टमेंट करना बहुत जरुरी हैं। इससे आपका रिस्क ना के बराबर हो जाता हैं। ऐसा बिल्कुल नहीं की Physical Gold खरीद लो आपको केबल E-gold पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है ही खरीदना चाहिए। एक अच्छा सुरक्षित पोर्टफोलियो बनाने के लिए गोल्ड में निवेश करना सही हैं।

निष्कर्ष:-

इन्वेस्टमेंट के जरिये पैसे कमाने से पहले आपको पहले उस पैसे को बचाना आना चाहिए। उसके बाद ही आपको निवेश करना चाहिए। अगर आप पोर्टफोलियो बनाते समय इन बातों को फॉलो करोगे तो आनेवाले दिनों में आप इन्वेस्टमेंट के जरिए अच्छा कमाई करनेवाले हो।

आशा करता हु आपको Portfolio kaise banaye अपना पोर्टफोलियो कैसे बनाये पोस्ट को पढ़के अच्छी तरह से समझ गए होंगे कैसे निवेश करने से एक अच्छा Portfolio बनता हैं। अगर आपके मन में इससे जुड़ी कोई भी सवाल या सुझाब है पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है तो कमेंट में जरुर बताए। शेयर मार्केट से महत्वपूर्ण जानकारी के लिए जरुर हमारे साथ बने रहे।

क्या अच्छा Portfolio में Penny Stock को रखना चाहिए?

जी हां अगर आपको रिस्क लेना है तो एक छोटा सा अमाउंट Penny Stock में लगा चकते हो।

कहा कहा निवेश करने से अच्छा Portfolio बनता हैं?

अगर आप रिस्क को कम करना चाहते हो तो Stock Market, Mutual Fund और Gold में इन्वेस्ट करना चाहिए।

अच्छा Portfolio क्यों बनाना चाहिए?

लंबे समय के निवेश के लिए एक अच्छा पोर्टफोलियो होना बहुत जरुरी हैं। इससे आप नुकशान से बचकर अच्छा कमाई कर चकते हैं।

एक ऐसा निवेश फर्म, जो स्टार्टअप्स के लिए है सक्सेस गारंटी! इन कंपनियों की बदल गई किस्मत

बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो

by बिजनेस वर्ल्ड ब्यूरो ।।
Published - Tuesday, 15 November, 2022

Happy BW

मुंबई: भारत के पहले एकीकृत इनक्यूबेटर और शुरुआत से लेकर डेवलपमेंट फेज वाले स्‍टार्टअप्‍स के लिए फुल स्टैक निवेशक वेंचर कैटलिस्ट्स ग्रुप (Vcats++) ने घोषणा की है कि इसके पोर्टफोलियो स्टार्टअप्स में से लगभग 54 ने इस साल 50 मिलियन डॉलर से अधिक का वैल्‍यूएशन हासिल कर लिया है. चैलेंजिंग टाइम की वजह से इस साल फंडिंग में 70% की गिरावट आई, लेकिन इसके बावजूद वेंचर कैटलिस्ट्स काफी तेजी से बढ़ा और अब यह 33 यूनिकॉर्न्स और 100 से अधिक मिनीकॉर्न्स का घर है. पिछले एक साल में कम से कम दो दर्जन कंपनियों का वैल्यूएशन 100 मिलियन डॉलर को पार कर गया है और लगभग तीन स्टार्टअप - Shiprocket, Bharatpe और Vedantu ने यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल किया है.

ग्रुप के पास 300 से पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है अधिक स्टार्टअप्स का पोर्टफोलियो
वेंचर कैटालिस्ट्स ग्रुप एक अर्ली-टू-ग्रोथ स्टेज फंड है, जिसमें शुरुआती स्टेज से लेकर सेक्टर फोकस्ड तक के पांच फंड शामिल हैं. कंपनी ने पहली बार 2020 में अपना 150 मिलियन डॉलर का एक्सीलेरेटर फंड लॉन्च किया था. इसके बाद कंपनी ने चार और फंड्स लॉन्च किए हैं, जिसमें वेंचर कैटालिस्ट्स एंजेल फंड, 200 मिलियन डॉलर का फिनटेक फोकस्ड फंड बीम्स, प्रॉपटेक फंड स्पायर और 200 मिलियन डॉलर का ग्रोथ स्टेज सेक्टर एग्नोस्टिक फंड शामिल है. ग्रुप के पास 300 से अधिक स्टार्टअप्स का एक संयुक्त पोर्टफोलियो है, जिसका समेकित मूल्यांकन लगभग 10 बिलियन डॉलर आंका गया है.

ग्रुप के को-फाउंडर ने क्या कहा
वेंचर कैटलिस्ट्स ग्रुप के को-फाउंडर डॉ. अपूर्व रंजन शर्मा ने कहा, "यह वैल्यूएशन ऐसे समय में महत्वपूर्ण हो जाता है जब संभावित फंडिंग की कमी की आशंका न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में भी निवेशकों और स्टार्टअप को डरा रही है. यह पोर्टफोलियो कंपनियों के विकास और अप-राउंड के बारे में बात करता है. हमारे अधिकांश पोर्टफोलियो ने पिछले दो वर्षों में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है और हम अगले साल इनमें से कम से कम 3-4 को यूनिकॉर्न में बदलता हुआ देख रहे हैं."

कंपनी के तीन फाउंडर
इस कंपनी के तीन फाउंडर हैं- अनिल जैन, अनुज गोलेचा और गौरव जैन. इनका टारगेट कैलेंडर वर्ष 2022 तक 100 एक्जिट्स और अप-राउंड को बंद करना है. वेंचर कैटलिस्ट्स ने अपनी स्थापना के समय से 200 स्टार्टअप में 301 सौदों में निवेश किया है, जो इसे भारत का अग्रणी प्रारंभिक चरण का निवेश मंच बना रहा है. वेंचर कैटलिस्ट्स एक निवेश फर्म से कहीं अधिक है और यह अपने पोर्टफोलियो को प्रदान किए जाने वाले मजबूत परामर्श कार्यक्रम और समय पर मार्गदर्शन में विश्वास करता है, जिसने उन्हें उच्च मूल्यांकन पर राउंड बढ़ाने में मदद की है और स्टार्टअप को उनके ग्रोथ पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है में मदद की है.

स्टार्टअप की सफलता में देते हैं योगदान
वेंचर कैटालिस्ट्स के समर्थन के बारे में बात करते हुए, असिडस ग्लोबल के फाउंडर एवं सीईओ सोमदत्त सिंह ने कहा, "एक अच्छा सलाहकार ढूंढना स्टार्टअप की सफलता के लिए 'छिपा हुआ तरीका' है और 9 यूनिकॉर्न और वीकैट असिडस ग्लोबल के लिए मार्गदर्शक बल रहे हैं. हमें अपने विकास को बढ़ावा देने के लिए 9 यूनिकॉर्न से समर्थन और संसाधन मिले हैं. ठीक से सुसज्जित होने पर, हम दुनिया भर में अपने क्षेत्र में अपनी उपस्थिति दर्ज करने के लिए असिडस को आगे बढ़ाने सक्षम हैं. हम मेंटरशिप, वित्तीय संभावनाओं, संभावित वाणिज्यिक अवसरों, उद्योग नेटवर्किंग और सभी तरह के समर्थन के लिए एक वैश्विक नेटवर्क तक पहुंच के कारण वास्तविक दुनिया में आसानी से और तेजी से आगे बढ़ने में सक्षम हैं."

वेंचर कैटालिस्ट्स ने अपने नेटवर्क के माध्यम से 100 मिलियन डॉलर (लगभग 782.4 करोड़ रुपये) के शुरुआती चरण के निवेश को संचालित किया है. 67 स्टार्टअप में, 94 सौदों को क्रियान्वित किया गया, जिनमें से 27 सौदों ने आंशिक या पूर्ण रिटर्न दिया, जबकि शेष में अप-राउंड की स्थिति रही. 17 सौदों के अनुरूप, संपत्ति की वसूली में विफलता के कारण या 1 गुना से कम रिटर्न दिए जाने के कारण 13 स्टार्टअप को बट्टे खाते में डाल दिया गया है.

पोर्टफोलियो में हैं ये बड़े स्टार्टअप्स
प्री-सीड, सीड और सीरीज ए राउंड में निवेश करने और इसके बाद के दौर में अपने पोर्टफोलियो के समर्थन के साथ एकीकृत इनक्यूबेटर ने महत्वपूर्ण मूल्य प्रस्तावों के साथ स्टार्टअप्स में निवेश किया है. इसके पोर्टफोलियो में शामिल कुछ सबसे बड़ी कंपनियों में Bharatpe, Vedantu, Zingbus, Beardo, Supr Daily, Enov8, Home Capital, Blowhorn शामिल हैं. वेंचर कैटालिस्ट्स ने न केवल इन स्टार्टअप्स के स्टार्टिंग फेज से ही समर्थन किया है, बल्कि डेवलपमेंट फेज तक उनकी मदद की है. साथ ही इसने देश में स्टार्टअप इकोसिस्टम को भी लोकतांत्रिक बनाया है. 55 शहरों में मौजूद 3000 से अधिक एंजल निवेशकों के साथ, वेंचर कैटलिस्ट्स का देश में सबसे बड़ा नेटवर्क है, जहां इसने अपने सुनियोजित मास्टरक्लास और टेलर मेड स्टार्टअप कार्यक्रमों के माध्यम से स्टार्टअप निवेश के बारे में जागरूकता पैदा करने में मदद की है.

उद्यम पूंजी उद्योग के विकास पर विचार करते हुए, डॉ शर्मा ने कहा, "भारत में स्टार्टअप के उदय ने पूरी दुनिया में उद्यमिता के लिए एक नया मानदंड स्थापित किया है. वेंचर कैटलिस्ट्स ने उच्च विकास क्षमता वाली कंपनियों का एक विविध, समग्र पोर्टफोलियो बनाने, पूंजी का लाभ उठाने, सलाह देने और एचएनआई, फैमिली ऑफिस, सीएक्सओ और अन्य के हमारे नेटवर्क बनाने के लिए उपाय किए हैं. हमारा उद्देश्य उद्यमी पारिस्थितिकी तंत्र का लोकतंत्रीकरण करना है, जिससे अधिक से अधिक निवेशक तेजी से टर्नअराउंड समय में लाभदायक रिटर्न प्राप्त करने के लिए उच्च रिटर्न असेट क्लास का पता लगा सकें."

Portfolio kaise banaye | अपना पोर्टफोलियो कैसे बनाये

Portfolio kaise banaye– इन्वेस्टमेंट में पैसे से पैसा कमाई करना है तो एक सही पोर्टफोलियो होना बहुत जरुरी हैं। आज हम जानेंगे सही तरीके से एक अच्छी अपना पोर्टफोलियो कैसे बनाये जिससे आप लंबे समय में अच्छा मुनाफा कमा सके।

Table of Contents

Portfolio kaise banaye

एक अच्छा पोर्टफोलियो बनाने के लिए आपको केवल एक ही जगह इन्वेस्ट करना उचित नहीं हैं। आपको अलग अलग इन्वेस्टमेंट के जरिया में इन्वेस्ट करना चाहिए। जिससे आपका पोर्टफोलियो स्थिर रहे। और लंबे समय में कितना भी गिरावट क्यों ना आए आपको नुकशान ना हो। एसी ही 3 इन्वेस्टमेंट जरियों के बारे में जानेंगे जिससे एक सही Portfolio बना सके।

  • शेयर मार्केट पोर्टफोलियो
  • Mutual fund पोर्टफोलियो
  • गोल्ड इन्वेस्टमेंट

Stock Market में अपना पोर्टफोलियो कैसे बनाये

स्टॉक मार्केट में अच्छा पोर्टफोलियो बनाना बहुत जरुरी है। क्योंकि यहाँ आपको अच्छा रिटर्न के साथ साथ रिस्क भी ज्यादा होता हैं। रिस्क को कम करने के लिए सही पोर्टफोलियो को सेलेक्ट करना जरुरी हैं।

कितने स्टॉक होना चाहिए:- स्टॉक मार्केट में कितने स्टॉक में इन्वेस्ट करना है ये आपके रिस्क के ऊपर निर्भर करता हैं। कोई भी एक शेयर में आप जब बार बार इन्वेस्ट करते हो`अगर वो शेयर अच्छा रिटर्न दिया तो ठीक नहीं तो बहुत बड़ा नुकशान भी हो चकता हैं। इसलिए आपके पोर्टफोलियो में कम से कम 5 से ज्यादा शेयर होना बहुत जरुरी हैं। और ज्यादा से ज्यादा 30 स्टॉक के ऊपर नहीं होना चाहिए। इसके ऊपर होने से आपको शेयर में निगरानी रखने में प्रॉब्लम होगा।

अलग अलग सेक्टर में निवेश:- समय के हिसाब से अलग अलग सेक्टर अच्छा पदर्शन करते रहते हैं। अगर आप एक ही सेक्टर के शेयर में अपना सारा पैसा लगा देते हो तो लंबे समय में आपको नुकशान भी हो चकता हैं। इसलिए आपको ज्यादा से ज्यादा सेक्टर के शेयर में निवेश करना चाहिए। लेकिन ये बिल्कुल नहीं की जिस सेक्टर के बारे में आप कुछ नहीं जानते उस सेक्टर में इन्वेस्ट करो। आपको जो भी सेक्टर अच्छा लगता है जो भबिस्य में अच्छा पदर्शन कर चकता है एसी ही सेक्टर में इन्वेस्ट करना चाहिए।

एक शेयर में कितना निवेश:- आपको किसी भी शेयर में निवेश करने से पहले जरुर ध्यान देना चाहिए उस स्टॉक में अपना इन्वेस्टमेंट का कुल पैसे के 10% से ज्यादा नहीं होना चाहिए। कितना भी आपको वो शेयर अच्छा लगे इससे ज्यादा आपको एक ही शेयर में बिल्कुल इन्वेस्ट नहीं पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है करना हैं। शेयर बाज़ार में किसी भी समय कुछ भी हो चकता हैं। इसलिए आपको इस बात को जरुर ध्यान देना चाहिए।

पैसो को बिभाजन:- शेयर मार्केट में आपको पैसो को सही तरीके से बिभाजन करना बहुत जरुरी है। आपका पैसा Large cap स्टॉक में 40-50 पतिशत होना चाहिए। इससे आपका पोर्टफोलियो स्थिर और सुरक्षित होगा। 20-30 पतिशत पैसा आपका Mid cap शेयर में जाना चाहिए। और थोड़ा रिस्क के साथ रिटर्न के लिए Small cap स्टॉक में 10-20 पतिशत पैसा इन्वेस्ट करना चाहिए। इससे आपका पोर्टफोलियो अच्छा और मजबूत होगा।

Monitor और Review:- आपके पोर्टफोलियो में जिस भी स्टॉक को रखा हैं। उसको लगातार Monitor और Review करना हैं। आपको देखना चाहिए कंपनी का रिजल्ट, ग्रोथ का संभावना कैसे पदर्शन कर रहा हैं। अगर आपको लगता है कोई शेयर आपके हिसाब से नहीं जा रहा उसके निकलके समय समय पर परिवर्तन करते रहना चाहिए। इससे आपका शेयर मार्केट का पोर्टफोलियो अच्छे होते रहेंगे। और आपको आनेवाले दिनों में अच्छा कमाई करके देगा।

Portfolio-kaise-banaye-अपना-पोर्टफोलियो-कैसे-बनाये

Mutual Fund में Portfolio कैसे बनाये

स्टॉक मार्केट के साथ साथ अपना पैसा का कुछ हिस्सा म्यूच्यूअल फण्ड में भी इन्वेस्ट करना चाहिए। इससे आपका पोर्टफोलियो में रिस्क कम से कम होता हैं। हालाकी म्यूच्यूअल फण्ड का पैसा भी शेयर मार्केट में ही ज्यादा इन्वेस्ट रहता है लेकिन बहुत सारे शेयर में इनवेस्टेड रहता हैं। और फण्ड मेनेगेर उस पैसे को मैनेज करता हैं. इससे आपका रिस्क संतुलन बना रहता हैं। इसलिए आपको शेयर मार्केट के साथ म्यूच्यूअल फण्ड में भी इन्वेस्ट करना चाहिए।

कितने म्यूच्यूअल फण्ड होना चाहिए:- सही म्यूच्यूअल फण्ड पोर्टफोलियो बनाने के लिए आपको ज्यादा फण्ड लेने की कोई भी जरुरत नहीं हैं। अगर आप ज्यादा म्यूच्यूअल फण्ड में इन्वेस्ट करते हो तो आप एक तरह की फण्ड में इन्वेस्ट कर रहे हो। इससे आप ज्यादा रिटर्न नहीं कमाई कर पाओगे। आपको 3 से 5 Mutual Fund में ही इन्वेस्ट करना चाहिए।

अलग अलग फण्ड में इन्वेस्ट:- आपके रिस्क के हिसाब से अलग अलग फण्ड जैसे Large cap, Mid cap, Small cap और जरुरत है तो Tax saver Fund में अच्छा पोर्टफोलियो बनाने के लिए इनमे निवेश होना बेहतर हैं। अगर आप पोर्टफोलियो को पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है सरल रखना चाहते हो तो इससे अच्छा आप Multi cap फण्ड को भी सेलेक्ट कर सकते हैं। Multi cap में सारे फण्ड के स्टॉक एक साथ ही इनवेस्टेड रहता हैं।

सही पोर्टफोलियो के लिए गोल्ड इन्वेस्टमेंट जरुरी है क्या

गोल्ड इन्वेस्टमेंट को सबसे सुरक्षित माना जाता हैं। म्यूच्यूअल फण्ड और शेयर मार्केट के अलाबा आपका एक छोटा हिस्सा गोल्ड में भी इन्वेस्टमेंट करना बहुत जरुरी हैं। इससे आपका रिस्क ना के बराबर हो जाता हैं। ऐसा बिल्कुल नहीं की Physical Gold खरीद लो आपको केबल E-gold ही खरीदना चाहिए। एक अच्छा सुरक्षित पोर्टफोलियो बनाने के लिए गोल्ड में निवेश करना सही हैं।

निष्कर्ष:-

इन्वेस्टमेंट के जरिये पैसे कमाने से पहले आपको पहले उस पैसे को बचाना आना चाहिए। उसके बाद ही आपको निवेश करना चाहिए। अगर आप पोर्टफोलियो बनाते समय इन बातों को फॉलो करोगे तो आनेवाले दिनों में आप इन्वेस्टमेंट के जरिए अच्छा कमाई करनेवाले हो।

आशा करता हु आपको Portfolio kaise banaye अपना पोर्टफोलियो कैसे बनाये पोस्ट को पढ़के अच्छी तरह से समझ गए होंगे कैसे निवेश करने से एक अच्छा Portfolio बनता हैं। अगर आपके मन में इससे जुड़ी कोई भी सवाल या सुझाब है तो कमेंट में जरुर बताए। शेयर मार्केट से महत्वपूर्ण जानकारी के लिए जरुर हमारे साथ बने रहे।

क्या अच्छा Portfolio में Penny Stock को रखना चाहिए?

जी हां अगर आपको रिस्क लेना है तो एक छोटा सा अमाउंट Penny Stock में लगा चकते हो।

कहा कहा निवेश करने से अच्छा Portfolio बनता हैं?

अगर आप रिस्क को कम करना चाहते हो तो Stock Market, Mutual Fund और Gold में इन्वेस्ट करना चाहिए।

अच्छा Portfolio क्यों बनाना चाहिए?

लंबे समय के निवेश के लिए एक अच्छा पोर्टफोलियो होना बहुत जरुरी हैं। इससे आप नुकशान से बचकर अच्छा कमाई कर चकते हैं।

छंटनी और मंदी के डर के बीच बनाइए 'सुरक्षा कवच', ये 5 कदम आपकी फाइनेंशियल सेहत का रखेंगे पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है खयाल

Zee Business हिंदी लोगो

Zee Business हिंदी 8 घंटे पहले ज़ीबिज़ वेब टीम

दुनियाभर में मंदी की आहट सुनाई दे रही है, और पूरा असर दिखे इसके पहले ही जॉब कट्स की शुरुआत हो गई है. मेटा, ट्विटर जैसी अमेरिकी टेक कंपनियों के अलावा, भारत में भी कई कंपनियां हैं, जहां छंटनी शुरू हो गई है. ऐसे में मंदी और जॉब कट के चलते आपको भी कुछ कदम उठा लेने चाहिए, जो आपकी इनकम, इन्वेस्टमेंट और फ्यूचर को सुरक्षित रखेंगे. ये वो परफेक्ट टाइम है, जब आप अपनी नौकरी और अपने भविष्य के लिए प्लानिंग और खुद को फाइनेंशियल सिक्योरिटी दें. हम यहां ऐसे खास 5 स्टेप्स बताने वाले हैं, जो आपको आने वाले वक्त के लिए तैयार करेंगे.

1. सबसे पहले अपना रेज्यूमे मजबूत करें

आपको सबसे पहले अपना रेज्यूमे स्ट्रॉन्ग करना होगा. इसके लिए आपको अपनी अपस्किलिंग करनी होगी, यानी आपको नए और रेलेवेंट स्किल सीखने होंगे, ताकि आपके पास कई तरह के पोर्टफोलियो मैनेजमेंट क्या है स्किल सेट हों और जरूरत पड़ने पर आपके पास की फील्ड में काम करने का ऑप्शन हो. आपके पास ऐसी स्किल होनी चाहिए, जिनकी मार्केटिंग की जा सके. इसके अलावा अपने रेज्यूमे और लिंक्डइन प्रोफाइल में सॉफ्ट स्किल, जैसे- कस्टमर सर्विस, कम्युनिकेशन, टाइम मैनेजमेंट जैसी चीजें ऐड करें. इसके साथ ही अगर आप हार्ड स्किल, जैसे- सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, डेटा एनालिसिस, डिजिटल मार्केटिंग में भी माहिर हों, तो आपके लिए ऐसे मुश्किल वक्त में भी जॉब के ऑप्शंस हो सकते हैं.

इसके अलावा अपना रेज्यूमे और लिंक्डइन प्रोफाइल अपडेट करके नेटवर्किंग करना शुरू करें.

इनकम के अलग-अलग सोर्स रखें

अब जब निवेश को बहुत तरजीह दी जाने लगी है तो यह सलाह अकसर दी जाती है कि आपको हमेशा एक से ज्यादा इनकम का रास्ता रखना चाहिए. इनकम डाइवर्सिफिकेशन जरूरी है, ताकि एक स्ट्रीम प्रभावित हो तो भी एक स्ट्रीम से पैसा आता रहे.

इमरजेंसी सेविंग्स/फंड में करें बढ़ोतरी

ऐसे वक्त में आप अपने लिए एक अच्छा काम कर सकते हैं वो है अपनी सेविंग्स में बढ़ोतरी करना. आदर्श स्थिति यही होगी कि अगर आप मुश्किल में फंस गए हों तो आपके पास इतनी सेविंग्स हो कि अगले 6 से 3 महीनों तक आपका काम चल सके.

लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट स्ट्रेटजी को छोड़े नहीं

अगर लॉन्ग टर्म के लिए निवेश कर रहे हैं, तो इसे बिल्कुल भी ना छोड़ें. बाजार में निवेशकों को हड़बड़ी में आकर बेचने की सलाह नहीं दी जाती है. हां सही है कि बाजार की टाइमिंग का अंदाजा लगाना मुश्किल है, लेकिन कुछ वक्त बाद बाजार रिकवरी लेता है. आपको ये देखना होगा कि आपका इन्वेस्टमेंट गोल क्या है, टाइम फ्रेम क्या है और रिस्क लेने की क्षमता कितनी है, इस हिसाब से अपनी स्ट्रेटेजी बनाएं.

हालांकि, आर्थिक स्थिति कैसी है, आपको ऐसा पैसा बाजार में लगाकर नहीं रखना चाहिए, जिसकी आपको अगले पांच सालों में जरूरत पड़ने वाली है.

अपना पोर्टफोलियो बचाएं

अगर आप युवा निवेशक हैं, तो आपको अपने निवेश पोर्टफोलियो में लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट स्टॉक्स में रखना चाहिए. वहीं, 50 से 60 के ऊपर के निवेशकों को थोड़ा कम अग्रेसिव चलना चाहिए और बॉन्ड्स-कैश जैसे विकल्पों में पैसा डालना चाहिए. टैक्स डाइवर्सिफिकेशन का ध्यान भी रखना चाहिए.

रेटिंग: 4.36
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 821
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *