प्रमुख भारतीय स्टॉक एक्सचेंज

मनी मार्केट म्युचुअल फंड

मनी मार्केट म्युचुअल फंड
म्‍यूचुअल फंड (Mutual Fund) में निवेश करने वालों की संख्या में में तेजी से इजाफा हुआ है. म्‍यूचुअल फंड अपने निवेशकों को पिछले कुछ सालों से तगड़ा रिटर्न दे रहे हैं. इसमें आप सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान के जरिए छोटी-छोटी राशि निवेश करवा सकते हैं. आदित्य बिरला सन लाइफ इक्विटी फंड स्कीम (Aditya Birla Sun Life Equity Savings Fund Scheme). यह एक हाइब्रिड फंड है जो इक्विटी डेरिवेटिव्स, आर्बिट्रेज, इक्विटी इन्वेस्टमेंट, डेट और मनी मार्केट में निवेश करके लोगों को तगड़ा रिटर्न देता है.

PPF vs ELSS: नहीं कर पाते है बचत, तनखा आते ही, हो जाती है खर्च तो ये स्कीम आपके बड़े काम की है

अपनी बेटी के लिए तैयार करें 12 लाख का फंड, वो भी कुछ ही सालों में- जानिए कैसे?

नई दिल्ली. अगर आप भी अपने बच्चे के भविष्य को मनी मार्केट म्युचुअल फंड लेकर परेशान रहते हैं तो आपको अपने निवेश पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए. एक्सपर्ट कहते हैं जब आपका पैसा बचे, उसी समय से निवेश शुरू कर देना चाहिए. आपका निवेश आपके और आपके बच्चे के भविष्य के लिए बहुत काम आता है. आज के समय में कई ऐसी स्कीम हैं जिनमें निवेश कर आप मोटा फंड (earn money) तैयार कर सकते हैं. निवेश सलाहकारों का कहना है कि अगर आप निवेश की शुरूआत कर रहे हैं तो आपको टाइमिंग का इंतजार नहीं करना चाहिए.

निवेश करते समय अनुशासन का ध्यान रखें. मतलब कि समय पर निवेश करते रहना होगा या उसे बढ़ाते रहना होगा. तो चलिए जानते हैं आप कैसे और कहां निवेश करें. आज हम आपको एक ऐसी म्यूचुअल फंड स्कीम के बारे में बताने जा रहे हैं जिसमें निवेश करके इन्वेस्टर्स को 12 लाख रुपये का रिटर्न छोटी अवधि पर मिल सकता है.

PPF vs ELSS: नहीं कर पाते है बचत, तनखा आते ही, हो जाती है खर्च तो ये स्कीम आपके बड़े काम की है

Equity Linked Savings Scheme (इक्विटी लिंक्ड बचत योजना)

इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्‍कीम एक फ्लेक्सी कैप फंड के सामान ही है। इस की एक बेहद खास बात से यह है कि इसका लॉक इन पीरियड केवल 3 साल का ही है। ऐसे में यह बाकी टैक्स सेविंग स्कीम के मुकाबले बहुत समय के लिए आपके पैसों को लॉगइन करके रख सकता हैं। इस स्कीम में निवेश करने के लिए आपको एकमुश्त निवेश या SIP दोनों तरीके के ऑप्शन्स मिलते हैं।

PPF vs ELSS: नहीं कर पाते है बचत, तनखा आते ही, हो जाती है खर्च तो ये स्कीम आपके बड़े काम की है

आपको बता दें कि ELSS एक म्यूचुअल फंड स्कीम है जिसमें निवेश करना बाजार जोखिमों के अधीन हैं। ऐसे में आप अगर मार्केट जोखिमों को उठाने के लिए तैयार हैं तो इस स्कीम में निवेश कर सकते हैं।

Public Provident Fund (लोक भविष्य निधि)

पब्लिक प्रोविडेंट फंड एक सेफ इन्वेस्टमेंट स्कीम है जिसमें निवेश करने पर आपको मार्केट जोखिम का डर नहीं होता है।इस स्कीम का लॉक इन पीरियड 15 साल का है जिसमें आपको 7.1% का रिटर्न मिलता है। इस स्कीम में मैच्योरिटी राशि पर भी टैक्स नहीं देना पड़ता हैं। इस स्कीम में आपको निवेश करने पर इनकम टैक्स की धारा 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये के निवेश पर छूट मिलती है। आप एक साल में 500 रुपये से लेकर 1.5 लाख रुपये तक का निवेश कर सकते हैं।

PPF vs ELSS: नहीं कर पाते है बचत, तनखा आते ही, हो जाती है खर्च तो ये स्कीम आपके बड़े काम की है

PPF (Public Provident Fund ) vs ELSS (Equity Linked Savings Scheme)

इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम और पब्लिक प्रोविडेंट फंड दोनों ही निवेशकों को 80सी के तहत छूट का लाभ देते हैं, लेकिन ELSS पर आपको निवेश करके ज्यादा रिटर्न मिलता है। ELSS एक म्यूचुअल फंड स्कीम है जिसमें आपको 12% से 15% तक का रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। वहीं PPF में यह 7.1% का है। ELSS स्कीम मार्केट जोखिमों पर आधारित है वहीं पीपीएफ सेफ इन्वेस्टमेंट ऑप्शन है।अगर आप मार्केट जोखिम के साथ पैसे निवेश नहीं करना चाहते हैं तो पीपीएफ आपके लिए बेहतर ऑप्शन साबित हो सकता है।

Mutual Fund: बेटी के फ्यूचर की छोड़ दें टेंशन, कुछ सालों में ऐसे बनाएं 12 साल का फंड; समझिए पूरा गणित

बेटी के भविष्य की किसे चिंता नहीं होती. उसकी पढ़ाई से लेकर शादी तक के लिए पैरेंट्स को इन्वेस्टमेंट पर ध्यान देना चाहिए.

बेटी के भविष्य की किसे चिंता नहीं होती. उसकी पढ़ाई से लेकर शादी तक के लिए पैरेंट्स को इन्वेस्टमेंट पर ध्यान देना चाहिए. एक्सपर्ट्स का कहना है कि जब आपके पास पैसे बचने लग जाएं , उसी वक्त से इन्वेस्टमेंट शुरू कर देना चाहिए.

यही पैसा बाद में आपकी बेटी के काम आएगा. आज ऐसी कई स्कीम्स हैं , जिनकी मदद से आप कुछ वर्षों में अच्छा फंड तैयार कर सकते हैं. अगर आप भी निवेश का सोच रहे हैं तो उसको कल पर टालना छोड़ दें.

लेकिन इसके लिए आपको एक टाइम टेबल अपनाना होगा. यानी निवेश को बीच में छोड़ना नहीं है और उसे बढ़ाते रहना है.

अब जानिए आपको कब , कहां और कैसे निवेश करना है. आपको हम म्यूचुअल फंड की एक स्कीम के बारे में बता रहे हैं , जिनमें आपको छोटी अवधि में 12 साल का रिटर्न मिलेगा.

मनी मार्केट म्युचुअल फंड

अस्वीकरण :
इस वेबसाइट पर दी की गई जानकारी, प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बिना किसी वारंटी या प्रतिनिधित्व, व्यक्त या निहित के "जैसा है" और "जैसा उपलब्ध है" के आधार पर दी जाती हैं। Khatabook ब्लॉग विशुद्ध रूप से वित्तीय प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की शैक्षिक चर्चा के लिए हैं। Khatabook यह गारंटी नहीं देता है कि सर्विस आपकी आवश्यकताओं को पूरा करेगी, या यह निर्बाध, समय पर और सुरक्षित होगी, और यह कि त्रुटियां, यदि कोई हों, को ठीक किया जाएगा। यहां उपलब्ध सभी सामग्री और जानकारी केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई भी कानूनी, वित्तीय या व्यावसायिक निर्णय लेने के लिए जानकारी पर भरोसा करने से पहले किसी पेशेवर से सलाह लें। इस जानकारी का सख्ती से अपने जोखिम पर उपयोग करें। वेबसाइट पर मौजूद किसी भी गलत, गलत या अधूरी जानकारी के लिए Khatabook जिम्मेदार नहीं होगा। यह सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के बावजूद कि इस वेबसाइट पर निहित जानकारी अद्यतन और मान्य है, Khatabook किसी भी उद्देश्य के लिए वेबसाइट की जानकारी, प्रोडक्ट, सर्विसेज़ या संबंधित ग्राफिक्स की पूर्णता, विश्वसनीयता, सटीकता, संगतता या उपलब्धता की गारंटी नहीं देता है।यदि वेबसाइट अस्थायी रूप से अनुपलब्ध मनी मार्केट म्युचुअल फंड है, तो Khatabook किसी भी तकनीकी समस्या या इसके नियंत्रण से परे क्षति और इस वेबसाइट तक आपके उपयोग या पहुंच के परिणामस्वरूप होने वाली किसी भी हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

PPF vs ELSS: नहीं कर पाते है बचत, तनखा आते ही, हो जाती है खर्च तो ये स्कीम आपके बड़े काम की है

Equity Linked Savings Scheme (इक्विटी लिंक्ड बचत योजना)

इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्‍कीम एक फ्लेक्सी कैप फंड के सामान ही है। इस की एक बेहद खास बात से यह है कि इसका लॉक इन पीरियड केवल 3 साल का ही है। ऐसे में यह बाकी टैक्स सेविंग स्कीम के मुकाबले बहुत समय के लिए आपके पैसों को लॉगइन करके रख सकता हैं। इस स्कीम में निवेश करने के लिए आपको एकमुश्त निवेश या SIP दोनों तरीके के ऑप्शन्स मिलते हैं।

PPF vs ELSS: नहीं कर पाते है बचत, तनखा आते ही, हो जाती है खर्च तो ये स्कीम आपके बड़े काम की है

आपको बता दें कि ELSS एक म्यूचुअल फंड स्कीम है जिसमें निवेश करना बाजार जोखिमों के अधीन हैं। ऐसे में आप अगर मार्केट जोखिमों को उठाने के लिए तैयार हैं तो इस स्कीम में निवेश कर सकते हैं।

Public Provident Fund (लोक भविष्य निधि)

पब्लिक प्रोविडेंट फंड एक सेफ इन्वेस्टमेंट स्कीम है जिसमें निवेश करने पर आपको मार्केट जोखिम का डर नहीं होता है।इस स्कीम का लॉक इन पीरियड 15 साल का है जिसमें आपको 7.1% का रिटर्न मिलता है। इस स्कीम में मैच्योरिटी राशि पर भी टैक्स नहीं देना पड़ता हैं। इस स्कीम में आपको निवेश करने पर इनकम टैक्स की धारा 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये के निवेश पर छूट मिलती है। आप एक साल में 500 रुपये से लेकर 1.5 लाख रुपये तक का निवेश कर सकते हैं।

PPF vs ELSS: नहीं कर पाते है बचत, तनखा आते ही, हो जाती है खर्च तो ये स्कीम आपके बड़े काम की है

PPF (Public Provident Fund ) vs ELSS (Equity Linked Savings Scheme)

इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम और पब्लिक प्रोविडेंट फंड दोनों ही निवेशकों को 80सी के तहत छूट का लाभ देते हैं, लेकिन ELSS पर आपको निवेश करके ज्यादा रिटर्न मिलता है। ELSS मनी मार्केट म्युचुअल फंड एक म्यूचुअल फंड स्कीम है जिसमें आपको 12% से 15% तक का रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। वहीं PPF में यह 7.1% का है। ELSS स्कीम मार्केट जोखिमों पर आधारित है वहीं पीपीएफ सेफ इन्वेस्टमेंट ऑप्शन है।अगर आप मार्केट जोखिम के साथ पैसे निवेश नहीं करना चाहते हैं तो पीपीएफ आपके लिए बेहतर ऑप्शन साबित हो सकता है।

रेटिंग: 4.70
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 296
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *