सर्वश्रेष्ठ CFD ब्रोकर्स

शेयर मार्केट अकाउंट क्या है?

शेयर मार्केट अकाउंट क्या है?

शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें 2022 | Share Market Me Account Kaise Khole

दोस्तों आप तो जानते ही होंगे कि शेयर बाजार में पैसा लगाने के लिए आपको कोई भी शेयर बाजार प्लेटफार्म पर सर्वप्रथम शेयर मार्केट का एक डिमैट अकाउंट (Demat Account) खोलना होता है। लेकिन सबसे बड़ा दिक्कत का बात यह है कि जिस लोगों का शेयर बाजार में अभी तक अकाउंट ही नहीं है उन लोगों में से अधिकतर लोगों को यह पता ही नहीं है कि एक शेयर बाजार डिमैट अकाउंट कैसे खोलते हैं।

अगर आप भी उनमें से एक हो तो आप चिंता ना करें। क्योंकि आज हम इस लेख में आपके समक्ष बहुत ही आसानी से विस्तारित आलोचना करने वाले हैं कि आप कैसे फ्री में शेयर मार्केट अकाउंट खोल सकते हैं (Open Share Market Account in 2022) वह भी इस 2022 में।

Table Of Contents

शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें 2022

दोस्तों पहली बात तो यह है कि अगर कोई भी व्यक्ति शेयर मार्केट में अकाउंट खोलना चाहता है तो उसको सबसे पहले एक डिमैट अकाउंट खोलना होगा। यानी कि आप अपनी खुद की आईडी से एक शेयर मार्केट वाला डिमैट अकाउंट खोलने के बाद ही आप शेयर मार्केट में पैसा लगा सकते हो।

शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें

तो अभी सबसे बड़ा प्रश्न यह है कि आप यह डिमैट अकाउंट कैसे खोलते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आजकल इंटरनेट पर बहुत सारे प्लेटफार्म आ गए हैं जहां पर आप फ्री में भी डिमैट अकाउंट बना सकते हैं। आज से कुछ साल पहले आप सिर्फ कुछ चुनिंदा कंपनी एवं बैंक से ही डिमैट अकाउंट खोल सकते थे। लेकिन पिछले कुछ वर्षों में जब भारत में शेयर मार्केट का व्यापार थोड़ा बढ़ने लगा है तब बहुत सारे कंपनी मार्केट में उभर कर आए हैं शेयर मार्केट अकाउंट क्या है? जो फ्री में डीमैट अकाउंट बनाने का ऑप्शन देने के साथ-साथ उसमें आसान से आसान तरीके से ट्रेडिंग करने का ऑप्शन दे रखा है।

तो दोस्तों अभी आप ऊपर दिए गए सारे तथ्य को पढ़ने के बाद आप वह सारे प्लेटफार् के बारे में जानना चाहते होंगे जो इस 2022 में भी शेयर मार्केट में अकाउंट खोलने के लिए फ्री डिमैट अकाउंट करने का फ्री में ऑप्शन दे रहे हैं। तो आप नीचे दिए गए सारे प्लेटफार्म के बारे में अच्छी तरीके से जान ले। क्योंकि उसके पश्चात ही आप “शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें” तथा “फ्री में डिमैट अकाउंट कैसे खोलें”, यह सारे प्रश्न का उत्तर आसानी से ही मिल जाएगा।

इसके लिए अभी हम सबसे पहले जो प्लेटफार्म का नाम लेने वाले हैं वह है UpStox।

Upstox मैं अकाउंट कैसे खोलें

तो दोस्तों अभी आप Upstox Me Demat Account Kaise Khole, इसके बारे में विस्तारित आलोचना करेंगे एवं इससे पहले आप सर्वप्रथम नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करके Upstox के फ्री डिमैट अकाउंट खोलने वाले पेज में जाएं।

ऊपर दिए गए आप स्टॉप् के लिंक पर क्लिक करने के बाद आप एक्टर्स की ऑफिशियल वेबसाइट में जाओ पहुंचेंगे जहां पर आपको अपना सारा पर्सनल इंफॉर्मेशन जैसे कि आधार कार्ड पैन कार्ड एवं बैंक डिटेल्स डालकर एक डीमैट अकाउंट खोलना है वह भी फ्री में।

तो दोस्तों आप आप स्टोक्स में एक डिमैट अकाउंट खोल कर ही शेयर मार्केट में अकाउंट खोल सकते हैं एवं इसके उपरांत आप अपना मनचाहा शेयर UpStox से खरीद के एवं सही समय पर भेजकर अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं।

UpStox मैं अकाउंट खोलने के लिए क्या-क्या डॉक्यूमेंट चाहिए

दोस्तों जैसे कि आपको पता है क्या Upstox में एक शेयर मार्केट का अकाउंट खोलने के लिए आपको सबसे पहले एक डिमैट अकाउंट ओपन करना होता है। लेकिन आपको इसके साथ-साथ एक चीज के बारे में जानना है कि यह डिमैट अकाउंट खोलने के लिए कौन-कौन से कागजात आवश्यक होता है।

तो एक डिमैट अकाउंट है उसमें खोलने के लिए जो जो कागजात की जरूरत होता है वह है-

  • आपका वोटर आईडी कार्ड
  • आधार कार्ड एवं पैन कार्ड
  • आपका बैंक अकाउंट नंबर

दोस्तों अगर आपके पास ऊपर दिए गए यह चारों कागजात है तो आप आसानी से आप स्टॉक्स में एक डिमैट अकाउंट खोल के शेयर मार्केट में अपना खुद का अकाउंट सफलतापूर्वक खोल पाएंगे। इसके अलावा अगर आप में से कोई आफ स्टॉक्स में अकाउंट नहीं खोलना चाहते हैं तो आप Groww में भी आपका अकाउंट खोल सकते हैं।

Groww App मैं शेयर मार्केट का अकाउंट कैसे खोलें

आप स्टॉप्स जैसे आपकी तरह ही Groww भी एक अच्छा शेयर मार्केट का एप्लीकेशन है जहां पर आज के टाइम में लाखों लोग हर रोज शेयर खरीदे एवं भेजते हैं। असल में Groww इस शेयर मार्केट में चलने का सबसे बड़ा कारण है उसका आसान यूजर इंटरफस।

मैं अपना खुद का एक्सपीरियंस से बता रहे हैं कि हमने अभी तक Groww है अच्छा एवं आसान शेयर मार्केट का एप्लीकेशन नहीं देखा है। इसका मतलब यह है कि अगर कोई भी नया व्यक्ति शेयर मार्केट में एक डिमैट अकाउंट खोलना चाहते हैं तो उसके लिए सबसे आसान होगा यह Groww App। अभी आपने ऐसे बहुत सारे लोग यह सोच रहे होंगे कि आप Groww App के द्वारा शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें।

ठीक हूं पर दिए गए आपके तरह है अगर आप Groww App मैं एक नया शेयर मार्केट अकाउंट क्या है? शेयर मार्केट का अकाउंट खोलना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले इसमें एक डिमट अकाउंट बनाना पड़ेगा। तो दोस्तों आइए सबसे पहले हम लोग यह जानते हैं कि Groww App में एक डिमट अकाउंट बनाने के लिए क्या-क्या चीजों की जरूरत पड़ता है।

  • पैन कार्ड एवं वोटर आईडी कार्ड,
  • आपका आधार कार्ड नंबर जो मोबाइल के साथ लिंक होना चाहिए,
  • बैंक अकाउंट शेयर मार्केट अकाउंट क्या है? नंबर जो सेम मोबाइल नंबर के साथ ही लिंक होना चाहिए।

तो दोस्तों अगर आपके पास ऊपर दिए गए सारे कागजात मौजूद हैं तो आप आसानी से Groww App में एक फ्री डिमैट अकाउंट खोलकर फ्री में ही शेयर मार्केट का अकाउंट ओपन कर सकते हैं।

शेयर मार्केट में शुरुआत कैसे करें

शेयर मार्केट के लिए अकाउंट कैसे खोले?

शेयर मार्केट के लिए फ्री अकाउंट खोलने के लिए आप UpStox एवं Groww जैसे एप्लीकेशन को उस कर सकते हैं।

सबसे अच्छा डीमैट अकाउंट कौन सा है?

सबसे अच्छा डिमैट अकाउंट आप ग्रुप एवं आफ स्टॉक्स में मिल जाएगा।

शेयर बाजार को कैसे समझें?

दोस्तों शेयर बाजार को अच्छी तरीके से समझने के लिए आप Groww में एक फ्री में डिमैट अकाउंट खोलें।

भारत में कितने डीमैट अकाउंट है?

इस 2022 की लेटेस्ट अपडेट के अनुजाई भारत में अभी कुल मिलाकर 10 करोड़ के ऊपर डिमैट अकाउंट है।

निष्कर्ष

तो दोस्तों जैसे कि आप देख पा रहे हैं आज हम एस लेख में विस्तार से बताएं हैं कि, शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे शेयर मार्केट अकाउंट क्या है? खोलें एवं एक डीमैट अकाउंट खोलने के लिए क्या-क्या करना पड़ता है। आशा करता हूं अगर आप हमारे इस लेख को आंतक अच्छी तरीके से परे होंगे तो आपको UpStox एवं Groww App जैसे पॉपुलर एप्लीकेशन में कैसे शेयर मार्केट का अकाउंट खोला जाता है इसके बारे में अच्छी तरीके से पता लग गया होगा। इसके उपरांत भी अगर आपके मन में शेयर मार्केट में अकाउंट खोलने को लेकर कुछ भी प्रश्न या फिर दुविधा है तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में जरूर पूछें।

by Sayan Das

Sayan Das is a good article writer who loves writing about government schemes and helps people know about this application. He has a knack for article writing with the best knowledge that should help our visitor in a better way. He has more than 3 years plus experience in the blogging sector. If we talk about his educational qualification, then he is an Electronics Engineer. He is available on Facebook, Twitter. You शेयर मार्केट अकाउंट क्या है? can contact him.

Demat vs Trading Account में क्या अंतर होता है? दोनों के क्या इस्तेमाल हैं?

नई दिल्ली। शेयर बाजार में निवेश करने वालों ने डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट के बारे में बहुत सुनते हैं, पर अधिकांश लोगों को इन दोनों खातों के बीच का अंतर नहीं पता होता है। आइए आसान भाषा में जानते हैं डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट के बीच क्या-क्या अंतर होता है?

शेयर मार्केट में निवेश के लिए डीमैट अकाउंट दोनों का होना जरूरी
बता दें कि इक्विटी मार्केट में निवेश के लिए किसी भी व्यक्ति के पास डीमैट अकाउंट का होना सबसे पहली शर्त है। डीमैट अकाउंट के साथ एक और खाता अटैच होता है जिसे ट्रेडिंग अकाउंट कहते हैं। जरूरत के आधार पर दोनों निवेशक दोनों का अलग-अलग इस्तेमाल करते हैं। डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट दोनों अलग-अलग तरह के खाते होते हैं। डीमैट अकाउंट वह अकाउंट होता है जिसमें आप अपने असेट या इक्विटी शेयर रख सकते हैं। वहीं दूसरी ओर ट्रेडिंग अकाउंट वह खाता होता है जिसका इस्तेमाल करतेह हुए आप इक्विटी शेयरों में लेनदेन करते हैं।

क्या होता है डीमैट अकाउंट?
डीमैट अकाउंट वह खाता होता है जिसके माध्यम से आप शेयर मार्केट अकाउंट क्या है? अपनी इक्विटी हिस्सेदारी इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में होल्ड करके रखते हैं। डीमैट अकाउंट फिजिकल शेयर को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में बदल देता है। डीमैट अकाउंट खोलने पर आपको एक डीमैट अकाउंट नंबर दिया जाता है जहां आप अपने इक्विटी शेयरों को सहेज कर रखते हैं। डीमैट अकाउंट बहुत हद तक बैंक अकाउंट की तरह कार्य करता है। यहां से इक्विटी बाजार में किए गए अपने निवेश की जमा और निकासी कर सकते हैं। डीमैट अकाउंट खोलने के लिए यह जरूरी नहीं कि आपके पास कोई शेयर हो। आपके अकाउंट में जीरो बैलेंस हो तो भी आप डीमैट शेयर मार्केट अकाउंट क्या है? खाता खोल सकते हैं।

यह भी पढ़ें | भारत और कनाडा के बीच अनलिमिटेड फ्लाइट्स, दोनों देशों के बीच हुआ बड़ा समझौता

क्या होता है ट्रेडिंग अकाउंट?
इक्विटी शेयरों को खाते में सहेजकर रखने की बजाय अगर आप इनकी ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो आपको ट्रेडिंग अकाउंट की जरूरत पड़ती है। अगर आप शेयर बाजार में लिस्टेड किसी कंपनी के शेयरों की खरीद-बिक्री करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको ट्रेडिंग अकाउंट की जरूरत पड़ती है।

डीमैट और ट्रेडिंग में अकाउंट क्या फर्क है?
जहां डीमैट अकाउंट आपके शेयर या को डिमैटिरियलाइज्ड तरीके से सुरक्षित रखने वाला खाता होता है, वहीं दूसरी ओर, ट्रेडिंग अकाउंट आपके बैंक खाते और डीमैट खाते के बीच की कड़ी होती है। डीमैट अकाउंट में शेयरों को सुरक्षित रखा जाता है। इसमें कोई लेन-देन नहीं किया जाता है। ट्रेडिंग अकाउंट शेयरों की खरीद-फरोख्त के लिए इस्तेमाल होता है। डीमैट अकाउंट पर निवेशकों को सालाना कुछ चार्ज देना होता है। पर ट्रेडिंग अकाउंट आमतौर पर फ्री होता है, हालांकि यह इस बात पर निर्भर करता है कि सेवा प्रदाता कंपनी आपसे चार्ज वसूलेगी या नहीं।

क्या सिर्फ डीमैट या ट्रेडिंग अकाउंट रख सकते हैं?
आमतौर पर डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट एक साथ ही खोले जाते हैं। शेयरों में निवेश के लिए दोनों ही तरह के खाते जरूरी हैं। जब आप शेयरो को खरीदते हैं और उसे लंबे समय तक अपने पास रखना चाहते हैं तो आपको डीमैट अकाउंट की जरूरत पड़ती है। वहीं अगर आप बस शेयरों की ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो आपको ट्रेडिंग अकाउंट की जरूरत पड़ती है। अगर आप सिर्फ इंट्राडे शेयर ट्रेडिंग, फ्यूचर ट्रेडिंग, ऑप्शंस ट्रेडिंग और करेंसी ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो आपको सिर्फ डीमैट अकाउंट की जरूरत पड़ती है। आप चाहते तो दोनों तरह के खातों को एक दूसरे के बिना भी रख सकते हैं।

10 दिनों में डीमैट अकाउंट से जुड़ा कर लें यह काम, वरना 1 जुलाई को शेयर मार्केट से नहीं खरीद पाएंगे शेयर्स

अगर आपके पास डीमैट (Demat) और ट्रेडिंग (Trading) अकाउंट (Account) हैं तो यह आपके लिए जरूरी खबर है

KYC of Dmat Account: अगर आपके पास डीमैट (Demat) और ट्रेडिंग (Trading) अकाउंट (Account) हैं तो यह आपके लिए जरूरी खबर है। आपको 30 जून 2022 तक अपने डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट की केवाईसी (KYC) करानी होगी। अगर आपने केवाईसी नहीं कि तो आप 1 जुलाई को शेयर बाजार में ट्रेडिंग नहीं कर पाएंगे। यानी, डीमैट की KYC नहीं होने पर 10 दिन बाद आपका डीमैट अकाउंट अस्थायी तौर पर बंद हो सकता है और आप शेयर बाजार से शेयर न ही खरीद पाओगे और न ही बेच पाओगे।

करानी होगी केवाईसी (KYC)

अपने डीमैट अकाउंट में अपनी इनकम रेंज (Income Range), मोबाइल नंबर (Mobile Number), ईमेल आईडी (Email ID) आदि अपडेट करना है। अगर आपने आज अपने डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट में यह सभी जानकारी नहीं अपडेट की तो आपका अकाउंट डिएक्टिवेट हो जाएगा। NSDL के मुताबिक, डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट रखने वाले निवेशकों को नो योर कस्टमर (KYC) प्रक्रिया के तहत ये 6 जानकारियां देनी जरूरी होती हैं। इसमें नाम, पता, पैन डिटेल, मोबाइल नंबर, ई-मेल आईडी और सालाना इनकम शामिल है।

शेयर मार्केट में अकाउंट कैसे खोलें

शेयर मार्केट के फायदे

शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए निम्न औपचारिकताओं को पूर्ण करना होता है:

स्टॉक ब्रोकर के साथ पंजीकरण

भारत में ट्रेडिंग के लिए मुख्यतः दो प्लेटफार्म बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) एवं एनएसई (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) उपलब्ध है। परंतु निवेशक सीधे तौर पर उपलब्ध प्लेटफार्म पर ट्रेडिंग नहीं कर सकते हैं। ट्रेडिंग आरंभ करने से पूर्व निवेशकों को स्टॉक ब्रोकर्स के साथ पंजीकरण करना अनिवार्य होता है। स्टॉक ब्रोकर्स निवेशक के प्रतिनिधि के रूप में सभी प्रकार की खरीद-फरोख्त करते हैं। स्टॉक ब्रोकर्स मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं:

डिस्काउंट ब्रोकर्स: डिस्काउंट ब्रोकर्स जैसे कि जीरोधा, शेयर मार्केट अकाउंट क्या है? एंजल ब्रोकिंग का उपयोग निवेशकों द्वारा उस स्थिति में किया जाता है जब वे स्वयं ट्रेडिंग करना चाहते हैं जिसके कारण स्टॉक ब्रोकर्स निवेशकों पर बहुत कम ट्रांजैक्शन शुल्क एवं वार्षिक मेंटेनेंस शुल्क लागू करते हैं।

फुल सर्विस ब्रोकर्स: फुल सर्विस ब्रोकर्स अपने अनुभव एवं विश्लेषण के आधार पर निवेशकों को संपूर्ण सेवाएं प्रदान करते हैं। उदाहरण के तौर पर उचित स्टॉक उचित समय शेयर मार्केट अकाउंट क्या है? पर चुनाव करना एवं चुने गए स्टॉक में निवेश की जाने वाली राशि को सुनिश्चित करना। फुल सर्विस ब्रोकर निवेशकों को और भी सेवाएं प्रदान करते हैं उदाहरण के तौर पर टैक्स संबंधी सुझाव, एस्टेट प्लैनिंग, कंस्ट्रक्शन, इनिशियल पब्लिक आफरिंग आदि। फुल सर्विस ब्रोकर निवेशकों के पोर्टफोलियो में निरंतर सुधार भी करते रहते हैं। इसी कारण फुल सर्विस ब्रोकर्स निवेशकों पर सामान्य से अधिक शुल्क लागू करते हैं।

आवेदन: उचित स्टॉक ब्रोकर के चुनाव के बाद निवेशक द्वारा स्टॉक ब्रोकर को संपूर्ण व्यक्तिगत जानकारी प्रदान की जाती है जिसके आधार पर निवेशक की सरकारी विनियमन के अंतर्गत जांच की जाती है एवं पंजीकरण किया जाता है। आज के समय में ट्रेडिंग अकाउंट ऑनलाइन सिर्फ 15 मिनट में ही खो जाते हैं और उसके बाद आप अपनी ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं।

ट्रेडिंग अकाउंट ओपन करना

स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग आरंभ करने के लिए स्टॉक ब्रोकर के साथ ट्रेडिंग अकाउंट ओपन करना अनिवार्य है। ट्रेडिंग अकाउंट निवेशक द्वारा की गई सभी प्रकार की खरीद-फरोख्त को दर्शाता है। ट्रेडिंग अकाउंट निवेशक के बैंक अकाउंट एवं डीमैट अकाउंट के मध्य संपर्क स्थापित करता है।

ट्रेडिंग अकाउंट के उपयोग द्वारा स्टॉक्स खरीदे जाने पर संबंधित राशि बैंक अकाउंट से डेबिट हो जाती है एवं इसके विपरीत स्टॉक्स के बेचे जाने पर जाने पर संबंधित राशि बैंक अकाउंट में क्रेडिट हो जाती है।

ट्रेडिंग अकाउंट ओपन करने के लिए केवाईसी फॉर्म के साथ निम्न दस्तावेजों की आवश्यकता होती है:

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • वर्तमान बैंक अकाउंट से संबंधित कैंसल्ड चेक
  • आय प्रमाण पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

डीमैट अकाउंट ओपन करना

स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग आरंभ करने के लिए स्टॉक ब्रोकर के साथ डिमैट अकाउंट ओपन करना भी अनिवार्य है। डिमैट अकाउंट निवेशक द्वारा संग्रहित सभी प्रकार की सिक्योरिटी को दर्शाता है। डीमैट अकाउंट का उपयोग निवेशक द्वारा खरीदे गई सभी प्रकार की सिक्योरिटी को संग्रहित करने के लिए किया जाता है।

ट्रेडिंग अकाउंट के उपयोग द्वारा शेयर खरीदे जाने पर संबंधित शेयर की संख्या डिमैट अकाउंट में क्रेडिट हो जाती है एवं इसके विपरीत शेयर के बेचे जाने पर संबंधित शेयर की संख्या डीमैट अकाउंट से डेबिट हो जाती है।

डिमैट अकाउंट ओपन करने के लिए केवाईसी फॉर्म के साथ निम्न दस्तावेजों की आवश्यकता होती है:

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • आय प्रमाण पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

बैंक अकाउंट लिंक करना

स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग आरंभ करने के लिए बैंक अकाउंट का ट्रेडिंग अकाउंट के साथ लिंक होना अनिवार्य है। ट्रेडिंग अकाउंट का बैंक अकाउंट के साथ लिंक होना स्टॉक मार्केट में होने वाली खरीद-फरोख्त को सहज बनाता है।

ट्रेडिंग अकाउंट एवं डिमैट अकाउंट के सक्रिय होने एवं ट्रेडिंग अकाउंट एवं बैंक अकाउंट लिंक होने के बाद निवेशक ट्रेडिंग आरंभ कर सकते हैं। स्टॉक मार्केट में निवेश एक लाभप्रद विकल्प है एवं इसके पोर्टफोलियो को शेयर मार्केट अकाउंट क्या है? विविधीकरण प्रदान कर इसे अधिक लाभप्रद बनाया जा सकता है।

ध्यान दें बैंक अकाउंट लिंक करने के लिए आपको कुछ अलग से नहीं करना पड़ता है। ट्रेडिंग अकाउंट खोलते वक्त आपका बैंक अकाउंट खुद ब खुद आपके ट्रेडिंग अकाउंट के साथ लिंक कर दिया जाता है।

शेयर मार्केट ट्रेडिंग करते हैं तो ध्‍यान दें, 1 जुलाई से बदल रहे हैं नियम, बिना टैगिंग के नहीं शेयर मार्केट अकाउंट क्या है? बेच सकेंगे शेयर

शेयर मार्केट ट्रेडिंग करते हैं तो ध्‍यान दें, 1 जुलाई से बदल रहे हैं नियम, बिना टैगिंग के नहीं बेच सकेंगे शेयर

यदि आप शेयर बाजार में ट्रेडिंग करते हैं और आपका अकाउंट है तो यह खबर आपके काम की है। अब जुलाई से इसके नियम बदलने जा रहे हैं। सेबी ने डीमैट खातों की टैगिंग लागू करने के लिए दलालों को 30 जून तक का समय दिया है। यदि खाते 1 जुलाई से बिना टैग वाले रहते हैं, तो इन खातों से किसी भी नई खरीदारी की अनुमति नहीं दी जाएगी। हालांकि, कॉरपोरेट कार्रवाई के परिणामस्वरूप शेयरों को श्रेय दिया जाएगा। जिन खाताधारकों के खाते बिना टैग के रहेंगे, वे भी अपने खातों से शेयर नहीं बेच सकेंगे।

एक्सचेंज और डिपॉजिटरी को 1 जुलाई और 1 अगस्त को अपनी अनुपालन रिपोर्ट जमा करनी होगी। पूंजी बाजार नियामक सेबी ने सोमवार को कहा कि स्टॉक ब्रोकरों के सभी डीमैट खाते, जो बिना टैग के हैं, उन्हें जून के अंत तक उचित रूप से टैग करने की आवश्यकता है। 1 जुलाई से बिना टैग वाले किसी भी डीमैट खाते में प्रतिभूतियों को जमा करने की अनुमति नहीं होगी। भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने एक परिपत्र में कहा कि हालांकि कॉरपोरेट कार्यों के कारण क्रेडिट की अनुमति होगी।

बैंक और डीमैट खातों की टैगिंग उस उद्देश्य को दर्शाती है जिसके लिए उन बैंक/डीमैट खातों का रखरखाव किया जा रहा है और ऐसे खातों की स्टॉक एक्सचेंजों/डिपॉजिटरी को रिपोर्ट करना। सेबी ने आगे कहा कि अगस्त से बिना टैग वाले किसी भी डीमैट खाते में प्रतिभूतियों के डेबिट की भी अनुमति नहीं होगी।

स्टॉक ब्रोकर को 1 अगस्त से ऐसे डीमैट खातों को टैग करने की अनुमति देने के लिए स्टॉक एक्सचेंजों से अनुमति लेनी होगी और बदले में एक्सचेंजों को अपनी आंतरिक नीति के अनुसार जुर्माना लगाने के बाद दो कार्य दिवसों के भीतर इस तरह की मंजूरी देनी होगी।

Inflation Rate: अक्टूबर में सस्ती हुईं खाने-पीने की चीजें, 19 महीने में सबसे कम रही थोक महंगाई दर

वर्तमान में, स्टॉक ब्रोकरों को केवल पांच श्रेणियों के तहत डीमैट खातों को बनाए रखने की आवश्यकता होती है - मालिकाना खाता, पूल खाता, क्लाइंट अनपेड सिक्योरिटीज, क्लाइंट सिक्योरिटीज मार्जिन प्लेज अकाउंट और क्लाइंट सिक्योरिटीज मार्जिन फंडिंग अकाउंट के तहत। नियमों के तहत, स्टॉक ब्रोकर के मालिकाना डीमैट खातों को 'स्टॉक ब्रोकर प्रोपराइटरी अकाउंट' के रूप में नामित करना स्वैच्छिक है और जिन खातों को टैग नहीं किया गया है, उन्हें मालिकाना माना जाएगा।

Petrol Diesel Price Today: पेट्रोल-डीजल की नई कीमतें जारी, चेक करें लेटेस्ट रेट्स

एक नजर में समझें

- सेबी ने डीमैट खातों पर नियम सख्त किए। प्रोकर को अब डीमैट खातों को वर्गीकृत करना होगा और उसका उद्देश्य बताना होगा।

- डीमैट खातों की टैगिंग 30 जून तक पूरी करनी होगी।

- 1 जुलाई से बिना टैग वाले डीमैट खातों में शेयर नहीं जोड़े जा सकेंगे।

- कॉर्पोरेट कार्रवाई के संबंध में शेयरों में वृद्धि पर कोई प्रभाव नहीं।

- 1 अगस्त से बिना टैग वाले खातों से शेयरों की बिक्री नहीं की जा सकी।

Post Office Saving Schemes: घर बैठे खोल सकते हैं पोस्ट ऑफिस एफडी अकाउंट, यहां जानिए इसका प्रोसेस

- एक्सचेंज और डिपॉजिटरी को अपनी अनुपालन रिपोर्ट 1 जुलाई और 1 अगस्त तक जमा करनी होगी।

5 श्रेणियां जिनमें डीमैट खाते खोले जाते हैं

- मालिकाना खाता - स्व व्यापार के लिए

- पूल खाता - बस्तियों के लिए।

- ग्राहक की अवैतनिक प्रतिभूतियाँ - ग्राहक के अवैतनिक शेयरों के लिए

- ग्राहक प्रतिभूतियां मार्जिन प्रतिज्ञा - मार्जिन के लिए ग्राहक शेयरों को गिरवी रखना

कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी हॉस्पिटल ने 1000 से ज़्यादा स्थानीय डॉक्टरों के लिए दो दिनों में 11 सीएमई का आयोजन किया

- मार्जिन फंडिंग के तहत क्लाइंट सिक्योरिटीज - ​​मार्जिन सिक्योरिटीज के लिए फंडेड सिक्योरिटीज

रेटिंग: 4.65
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 346
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *