सर्वश्रेष्ठ CFD ब्रोकर्स

जानिए निवेश रणनीति

जानिए निवेश रणनीति

भारत-ब्रिटेन के साथ अपने संबंधों को बहुत महत्‍व देता है : प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने बाली में हो रहे जी-20 शिखर सम्‍मेलन के अवसर पर आज फ्रांस, सिंगापुर, इटली, जर्मनी, ऑस्‍ट्रेलिया और ब्रिटेन के नेताओं के साथ अलग से बैठकें की। फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैनुएल मैक्रां के साथ मुलाकात में दोनों नेताओं ने रक्षा, व्‍यापार, निवेश और आर्थिक साझेदारी के नये क्षेत्रों में जानिए निवेश रणनीति द्विपक्षीय सहयोग की समीक्षा की। उन्‍होंने क्षेत्रीय और वैश्विक घटनाक्रमों पर भी चर्चा की।सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सीन लूंग के साथ द्विपक्षीय बैठक में दोनों नेताओं ने भारत और सिंगापुर के बीच हरित अर्थव्‍यवस्‍था, नवीकरणीय ऊर्जा और वित्‍तीय प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने के उपायों के साथ व्‍यापारिक संबंधों को मजबूत बनाने पर विचार-विमर्श किया। श्री मोदी ने सिंगापुर को भारत की एक्‍ट ईस्‍ट पॉलिसी का महत्‍वपूर्ण स्‍तंभ बताया।

जर्मनी के चांसलर ओलाफ शोल्‍ज के साथ बैठक में प्रधानमंत्री ने भारत और जर्मनी के बीच आर्थिक और रक्षा सहयोग मजबूत बनाने के उपायों पर चर्चा की। श्री मोदी ने इटली के प्रधानमंत्री जॉर्ज मेलोनी के साथ चर्चा में ऊर्जा, रक्षा, आर्थिक भागीदारी, संस्‍कृति और जलवायु परिवर्तन जैसे क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने पर जोर दिया। ऑस्‍ट्रेलिया के प्रधानमंत्री जानिए निवेश रणनीति एंथनी अल्बनिज़ के साथ द्विपक्षीय वार्ता में व्‍यापक रणनीति साझेदारी को मजबूत बनाने के साथ ही शिक्षा, नवाचार और अन्‍य क्षेत्रों में सहयोग पर भी जोर दिया। श्री मोदी ने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक के साथ भी मुलाकात की और भारत तथा ब्रिटेन के बीच व्‍यापारिक संपर्क रक्षा सहयोग और दोनों देशों के लोगों के बीच जुड़ाव को मजबूत करने के उपायों पर बातचीत की। श्री मोदी ने कहा कि भारत-ब्रिटेन के साथ अपने संबंधों को बहुत महत्‍व देता है।

बिहार में 500 करोड़ रुपये निवेश करेगी हिन्दुस्तान यूनिलीवर, कई अन्य कंपनियों ने भी निवेश की जताई इच्छा

बिहार में लगातार कई बड़ी कंपनियों ने निवेश करने की इच्छा जताई है. अब इस लिस्ट में एक और कंपनी का नाम जुड़ने जा रहा है. हिन्दुस्तान यूनिलीवर ने बिहार में 500 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करने का प्रस्ताव दिया है.

उद्योग

बिहार आए दिन उद्योग लगाने के लिए बड़ी बड़ी कंपनियों की पसंद बन रहा है. कई कंपनियों ने यहां उद्योग लगाने की घोषणा की है. अब इसी क्रम में एक और बहुराष्ट्रीय कंपनी का नाम जुड़ने जा रहा है. यह कंपनी है हिन्दुस्तान यूनिलीवर जिसने बिहार में 500 करोड़ रुपये से अधिक निवेश करने की इच्छा जताई है. इसके लिए हिंदुस्तान यूनिलीवर अभी बिहार में जमीन तलाश रही है.

कई कंपनी निवेश की तैयारी में

हिन्दुस्तान यूनिलीवर से पहले अडाणी समूह ने भी बिहार में निवेश करने की इच्छा जताई है. वहीं इससे जानिए निवेश रणनीति पहले कोलकाता में हुए इन्वेस्टर मीट में केवेंटर्स एग्रो ने लोजिस्टिक्स सेक्टर में बिहार के अंदर 600 करोड़ और जेआईएस ग्रुप ने 300 करोड़ के निवेश का प्रस्ताव दिया है. आईटीसी और पेप्सी जैसी बड़ी कंपनियों ने भी बिहार में निवेश किया है. इसके साथ ही कई और कंपनियां भी निवेश करने की तैयारी में है.

कंपनी प्रतिनिधि ने किया दौरा

निवेश करने की इच्छा रखने वाली कंपनियों के प्रतिनिधि कई बार बिहार का दौरा कर चुके हैं. इन्होंने मुजफ्फरपुर के मोतीपुर चीनी मिल और दूसरे औद्योगिक क्षेत्रों का भी दौरा किया. बिहार में आईटीसी भी अपनी कंपनी के विस्तार का योजना बना रही है. वहीं ब्रिटानिया कंपनी को भी बिहार सरकार ने बिहटा के सिकंदरपुर औद्योगिक क्षेत्र में फैक्ट्री के लिए 15 एकड़ जमीन आवंटित किया है. ब्रिटानिया बिहार में करीब 700 करोड़ रुपये का निवेश करने जा रही है.

अचानक आए खर्चों से निपटने के लिये Rainy day फंड और इमरजेंसी फंड बनाने की सलाह दी जाती है, जानिए

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। रूस यूक्रेन संकट के बीच रूस ने कंपनियों को बचाने के लिये Rainy day फंड के इस्तेमाल की बात कही है. इसके साथ ही दुनिया भर के देश अपनी अर्थव्यवस्था (economy) को बचाने के लिये इमरजेंसी फंड ( emergency Fund) की बात कर रहे हैं. सरकारों के बीच आम ये जानिए निवेश रणनीति दो शब्द आम लोगों के लिये भी काफी फायदेमंद साबित हो सकते हैं. महामारी और यूक्रेन संकट (russia ukraine crisis) ने इनकी जरूरत और ज्यादा समझा दी है. मौजूदा संकट आम लोगों के लिये काफी मुश्किल खड़ी कर सकते हैं क्योंकि ऐसे लोगों के पास उतार-चढ़ाव से निपटने के लिये खास मार्जिन नहीं बचा होता. आज हम आपको बताते हैं कि आप आने वाले कुछ समय में वित्तीय अनुशासन के साथ कैसे ये दो फंड्स तैयार करें जिससे आपको मुसीबत का सामना करने में मदद मिलेगी.

अनिश्चितता से निपटने के लिये कई विकल्प मौजूद होते हैं जैसे मेडिकल खर्च से निपटने के लिये पॉलिसी, आकस्मिक भुगतान के लिये क्रेडिट कार्ड आदि, हालांकि हर स्थिति में ये विकल्प काम नही आते. ऐसे में अपनी आर्थिक स्थिति को नुकसान से बचाने के लिये सलाह दी जाती है कि लोग छोटी छोटी बचत के साथ एक ऐसा फंड तैयार करें जो सिर्फ इन चुनौतियों से ही निपटने के लिये बना हो. इसमें Rainy Day Fund और इमरजेंसी फंड शामिल हैं. RD फंड तैयार करने में आसान होता है और खर्च से निपटने में मदद करता है. वहीं इमरजेंसी फंड आपको जरूरी सुरक्षा देते हैं और स्थिति को बिगड़ने से बचाते हैं.

Rainy Day Fund यूरोपीय और अमेरिकी सरकारों के बजट का एक अहम हिस्सा होता है. इस फंड का इस्तेमाल ऐसे छोटे खर्चों को पूरा करने के लिये किया जाता है, जो अनिश्चित होते हैं एक बार खर्च किये जाते हैं. इन खर्चों को किसी पॉलिसी का कवर नहीं मिलता और आपको कैश देकर ही इसे जानिए निवेश रणनीति पूरा करना होता है. इसमें मौसमी बीमारी में डॉक्टर की ओपीडी से लेकर दवा तक का खर्च, अचानक कहीं आने जाने का खर्च या फिर ऐसा ही घर की कोई छोटी -मोटी मरम्मत, या उपकरणों में कोई मरम्मत का खर्च आदि. आम तौर पर Rainy day Funds का अंदाज आप स्वयं लगा सकते हैं. अगर आपके घर में बच्चे हैं तो आप जानते हैं कि मौसम बदलने पर डॉक्टरों के चक्कर ज्यादा लगते हैं. वहीं गर्मियों की शुरुआत में AC की सर्विस या एक समय बाद गाड़ी की सर्विस आदि अचानक ही सामने आ जाती है. इन खर्चों का समय तय नहीं होता लेकिन आगे पीछे ये आ ही जाते हैं. आप इन खर्चों को जोड़कर या फिर एक अनुमान के साथ अपनी मासिक सैलरी के 25 जानिए निवेश रणनीति से 50 प्रतिशत तक का Rainy day Fund तैयार कर सकते हैं.

RD फंड्स में रकम कम होती है ऐसे में आप बेहतर ब्याज दर ऑफर करने वाले बैंक में एक अलग सेविंग अकाउंट खोल कर हर महीने छोटी छोटी रकम डाल कर अपने लक्ष्य के मुताबिक रकम जोड़ लें. इसे तैयार करने के लिये कोई खास रणनीति नहीं चाहिये, RD फंड का इस्तेमाल तब किया जाता है जब अचानक आये खर्चे आपकी मासिक खर्चों पर दबाव बना दें. एक बार पैसा निकालने के बाद जब स्थिति सुधरे तो वापस फंड को बढ़ा लें. आय बढ़ने के साथ फंड की सीमा भी बढ़ाते रहें.

इमरजेंसी फंड RD फंड से बढ़ा होता है और इसमें 3 से 6 महीने के बराबर खर्चों को कवर करने के लिये फंड रखा जाता है. इन्हें इमरजेंसी फंड इस लिये कहा जाता है क्योंकि आप कुछ खर्चों से बच नहीं सकते है, न ही इन्हें टाल सकते हैं और न ही इनमे कटौती कर सकते हैं. इस फंड का सबसे अहम इस्तेमाल तब होता है जब आय के स्रोत कुछ समय के लिये बंद हो जाएं. इसमें नौकरी का छूटना या सैलरी में कटौती या फिर बिना वेतन का अवकाश आदि.

इमरजेंसी फंड बड़े फंड होते हैं ऐसे में आप कम जोखिम की म्युचुअल फंड स्कीम में एसआईपी के जरिये निवेश कर सकते हैं. हर महीने की एसआईपी इस बात पर तय होगी कि आप साधारण रिटर्न के साथ कितने साल में फंड के बराबर रकम जोड़ना चाहते हैं. उदाहरण के लिये अगर आप चाहते हैं कि अगले 2 साल में आपके पास 2 लाख रुपये का इमरजेंसी फंड हो तो 8 प्रतिशत का रिटर्न देने वाली किसी औसत स्कीम में आप करीब 8500 रुपये की एसआईपी के साथ ये फंड इस अवधि में तैयार कर सकते हैं. ध्यान रखें अगर आप फंड तैयार करने के लिये किसी निवेश रणनीति का सहारा ले रहे हो तो वो ऐसी हो जो आपकी जरूरत के अनुसार तुरंत कैश कराई जा सके.

RD फंड्स और इमरजेंसी फंड्स को अलग अलग इसलिये बनाया जाता है जिससे आप खर्चों की गंभीरता और जरूरत को समझें . आकस्मिक लेकिन साधारण खर्च को पहले साधारण फिर RD फंड से ही पूरा करना सीखें,इमरजेंसी फंड्स सिर्फ इमरजेंसी के लिये रखें. RD फंड छोटा होता है लेकिन कोशिश करें पहले इमरजेंसी फंड बनाए. इमरजेंसी फंड में एक या दो महीने की सैलरी जुड़ने पर आप RD फंड की शुरुआत कर सकते हैं.

हर रोज बचाएं 80 रुपये से भी कम और 5 साल बाद पाएं पूरे 1.5 लाख, आज ही शुरू करें निवेश

saving

लेकिन अगर आप पैसों के निवेश के साथ ही ऐसा विकल्‍प तलाश रहे हैं, जो आपके पैसे को सुरक्षित रखे तो पोस्‍ट ऑफिस में निवेश कर सकते हैं। पोस्‍ट ऑफिस की छोटी बचत योजना आपके लिए अच्‍छा रिटर्न के साथ ही कई और फायदे जैसे टैक्‍स जानिए निवेश रणनीति की बचत और सुरक्षित निवेश जैसे सुविधा देती है। यहां आपको गारंटीड रिटर्न दिया जाता है।

भारतीय डाक द्वारा रेकरिंग डिपॉजिट स्‍कीम (RD scheme) पेश किया जाता है। जिसमें हर महीने पैसा जमा करने पर आपको सालाना ब्‍याज देती है। इस योजना में आप कम समय के लिए पैसे का निवेश शुरू कर सकते हैं।

पांच साल में आपको यह स्‍कीम एक अच्‍छा फंड दे सकती है। यहां हम आपको बताएंगे कि कैसे आप 80 रुपये से कम का निवेश कर 1.5 लाख की रकम पा सकते हैं। आइए जानते हैं इस खास स्‍कीम के बारे में सबकुछ

क्‍या है आरडी स्‍कीम और कौन खोल सकता है खाता
इस योजना के तहत आप अभिभावक के तौर पर अपने नाबालिग बच्‍चे के लिए खाता ओपेन कर सकते हैं और हर जानिए निवेश रणनीति महीने निवेश कर सकते हैं। इस योजना में में 5 साल की मैच्‍योरिटी अवधि दिया जाता है। यह योजना किसी भी भारतीय नागरिक को अधिकतम 3 वयस्कों का सिंगल या संयुक्त खाता शुरू करने की अनुमति देती है।

अभिभावक अवयस्क की ओर से भी खाता खोल सकता है। इसमें 10 साल से ऊपर का बच्चा भी अपना खाता खुलवा सकता है। इंडिया पोस्ट की वेबसाइट के अनुसार मासिक जमा के लिए न्यूनतम राशि केवल 100 रुपये है हालाकि निवेश करने की अधिकत्‍म सीमा नहीं है। आप जितना चाहें पैसे का निवेश कर सकते हैं। इस योजना के तहत 5.8 फीसद का रिटर्न तिमाही पर चक्रवृद्धि ब्‍याज के तहत देती है।

LIC Jeevan Akshay Policy में निवेश करके कमा सकते है हर महीने 36,000 रुपये

You can earn Rs 36,000 per month by investing in LIC Jeevan Akshay Policy

आप रिटायरमेंट के बाद जानिए निवेश रणनीति अच्छी आमदनी चाहते हैं तो आप भारतीय जीवन बीमा निगम की इस योजना में इन्वेस्ट कर सकते हैं। आप हर महीने लगभग 36,000 रुपये कमा सकते हैं। इस रणनीति के साथ, एलआईसी अपने निवेशकों को लाभ का मासिक अवसर प्रदान कर जानिए निवेश रणनीति रही है।

एलआईसी की जीवन अक्षय नीति:

एलआईसी ने एलआईसी जीवन अक्षय पॉलिसी कार्यक्रम को फिर से शुरू कर दिया है। केवल एक भुगतान करके आप इस पॉलिसी के साथ आजीवन लाभ प्राप्त कर सकते हैं।यह जीवन अक्षय पॉलिसी एक व्यक्तिगत, सिंगल-प्रीमियम, नॉन-लिंक्ड, नॉन-पार्टिसिपेटिंग एन्युइटी प्लान है।

इस पॉलिसी से हर महीने 36,000 रुपये प्राप्त करने के लिए, आपको एक समान दर ऑप्शन पर जीवन के लिए देय वार्षिकी का चयन करना होगा। इसके तहत आपको हर महीने एकमुश्त पेंशन भुगतान प्राप्त होगा। यदि आप 45 वर्ष के हैं और इस योजना में नामांकन करना चाहते हैं, तो आपको 70 लाख रुपये के सम एश्योर्ड ऑप्शन को चुनने पर 71,26,000 रुपये के प्रीमियम का एकमुश्त भुगतान करना होगा। इसमें इन्वेस्ट करने पर आपको 36429 रुपए मासिक पेंशन मिलेगी। व्यक्ति का निधन हो जाने पर पेंशन खत्म हो जाएगी।

इस आयु वर्ग के लोग लाभ उठा सकते हैं:

यह एलआईसी योजना 35 और 85 वर्ष की आयु के बीच के लोगों के लिए उपलब्ध है। इसके अलावा, विकलांग व्यक्ति इस नीति का लाभ उठा सकते हैं। इस नीति के साथ, आपके पास पेंशन प्राप्त करने के दस अलग-अलग ऑप्शन हैं।

मासिक पेंशन मिलनी चाहिए:

मान लीजिए कि आप 75 साल के हैं। नतीजतन, आपको रुपये के एकमुश्त प्रीमियम का भुगतान करना होगा। 610800. इस पर बीमित राशि रु. 6 लाख। इसमें सालाना पेंशन 1,000 रुपये होगी। 76,650, अर्धवार्षिक पेंशन रु। 37-35 हजार और त्रैमासिक पेंशन रु। 18,225। और पेंशन हर महीने 6,000 रुपये होगी। जीवन अक्षय योजना के तहत 12000 रुपये वार्षिक पेंशन की पेशकश की जाती है।

कम इन्वेस्टमेंट का ऑप्शन उपलब्ध होगा:

आप इस प्लान में थोड़ा सा पैसा लगा सकते हैं, जिसके बाद आपको सालाना 12,000 रुपये पेंशन मिलेगी। यदि आपके पास निवेश करने के लिए अधिक पैसा है तो आप अन्य संभावनाओं को चुन सकते हैं। सिर्फ 1 लाख रुपये के निवेश से आप हर महीने पैसा कमा सकते हैं। 1 लाख रुपये के निवेश पर आपको हर साल 12000 रुपये मिलेंगे। इस योजना में अधिकतम निवेश की कोई ऊपरी सीमा नहीं है।

रेटिंग: 4.59
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 601
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *