ट्रेडिंग विचार

फिसलन क्या है?

फिसलन क्या है?

Vaishnav Ki Phislan (Hindi Satire) : Harishankar Parsai

वैष्णव करोड़पति है। भगवान विष्णु का मंदिर। जायदाद लगी है। भगवान सूदखोरी करते हैं। ब्याज से कर्ज देते हैं। वैष्णव दो घंटे भगवान विष्णु की पूजा करते हैं, फिर गादी-तकिएवाली बैठक में आकर धर्म को धंधे से जोड़ते हैं। धर्म धंधे से जुड़ जाए, इसी को ‘योग’ कहते हैं। कर्ज लेने वाले आते हैं। विष्णु भगवान के वे मुनीम हो जाते हैं । कर्ज लेने वाले से दस्तावेज लिखवाते हैं -

‘दस्तावेज लिख दी रामलाल वल्द श्यामलाल ने भगवान विष्णु वल्द नामालूम को ऐसा जो कि.

वैष्णव बहुत दिनों से विष्णु के पिता के नाम की तलाश में है, पर वह मिल नहीं रहा। मिल जाय तो वल्दियत ठीक हो जाय।

वैष्णव के पास नंबर दो का बहुत पैसा हो गया है । कई एजेंसियाँ ले रखी हैं। स्टाकिस्ट हैं। जब चाहे माल दबाकर ‘ब्लैक’ करने लगते हैं। मगर दो घंटे विष्णु-पूजा में कभी नागा नहीं करते। सब प्रभु की कृपा से हो रहा है। उनके प्रभु भी शायद दो नंबरी हैं। एक नंबरी होते, तो ऐसा नहीं करने देते।

वैष्णव सोचता है - अपार नंबर दो का पैसा इकठ्ठा हो गया है। इसका क्या किया जाय? बढ़ता ही जाता है। प्रभु की लीला है। वही आदेश देंगे कि क्या किया जाय।

वैष्णव एक दिन प्रभु की पूजा के बाद हाथ जोड़कर प्रार्थना करने लगा - प्रभु, आपके ही आशीर्वाद से मेरे पास इतना सारा दो नंबर का धन इकठ्ठा हो गया है। अब मैं इसका क्या करूँ? आप ही रास्ता बताइए। मैं इसका क्या करूँ? प्रभु, कष्ट हरो सबका!

तभी वैष्णव की शुद्ध आत्मा से आवाज उठी - अधम, माया जोड़ी है, तो माया का उपयोग भी सीख। तू एक बड़ा होटल खोल। आजकल होटल बहुत चल रहे हैं।

वैष्णव ने प्रभु का आदेश मानकर एक विशाल होटल बनवाई। बहुत अच्छे कमरे। खूबसूरत बाथरूम। नीचे लॉन्ड्री। नाई की दुकान। टैक्सियाँ। बाहर बढ़िया लान। ऊपर टेरेस गार्डेन।

और वैष्णव ने खूब विज्ञापन करवाया।

कमरे का किराया तीस रुपए रखा।

फिर वैष्णव के सामने धर्म-संकट आया। भोजन कैसा होगा? उसने सलाहकारों से कहा - मैं वैष्णव हूँ। शुद्ध शाकाहारी भोजन कराऊँगा। शुद्ध घी की सब्जी, फल, दाल, रायता, पापड़ वगैरह।

बड़े होटल का नाम सुनकर बड़े लोग आने लगे। बड़ी-बड़ी कंपनियों के एक्जीक्यूटिव, बड़े अफसर और बड़े सेठ।

वैष्णव संतुष्ट हुआ।

पर फिर वैष्णव ने देखा कि होटल में ठहरने वाले कुछ असंतुष्ट हैं।

एक दिन कंपनी का एक एक्जीक्यूटिव बड़े तैश में वैष्णव के पास आया। कहने लगा - इतने महँगे होटल में हम क्या यह घास-पत्ती खाने के लिए ठहरते हैं? यहाँ ‘नानवेज’ का इंतजाम क्यों नहीं है?

वैष्णव ने जवाब दिया - मैं तो वैष्णव हूँ। मैं गोश्त का इंतजाम अपने होटल में कैसे कर सकता हूँ ?

उस आदमी ने कहा - वैष्णव हो, तो ढाबा खोलो। आधुनिक होटल क्यों खोलते हो? तुम्हारे यहाँ आगे कोई नहीं ठहरेगा|

वैष्णव ने कहा - यह धर्म-संकट की बात है। मैं प्रभु से पूछूँगा।

उस आदमी ने कहा - हम भी बिजनेस में हैं। हम कोई धर्मात्मा नहीं हैं - न आप, न मैं।

वैष्णव ने कहा - पर मुझे तो यह सब प्रभु विष्णु ने दिया है। मैं वैष्णव धर्म के प्रतिकूल कैसे जा फिसलन क्या है? सकता हूँ? मैं प्रभु के सामने नतमस्तक होकर उनका आदेश लूँगा।

दूसरे दिन वैष्णव साष्टांग विष्णु के सामने लेट गया। कहने लगा - प्रभु, यह होटल बैठ जाएगा। ठहरनेवाले कहते हैं कि हमें वहाँ बहुत तकलीफ होती है। मैंने तो प्रभु, वैष्णव भोजन का प्रबंध किया है। पर वे मांस माँगते हैं। अब मैं क्या करूँ?

वैष्णव की शुद्ध आत्मा से आवाज आई - मूर्ख, गांधीजी से बड़ा वैष्णव इस युग में कौन हुआ है? गाँधी का भजन है - ‘वैष्णव जन तो तेणे कहिये, जे पीर पराई जाणे रे।’ तू इन होटलों में रहनेवालों की पीर क्यों नहीं जानता? उन्हें इच्छानुसार खाना नहीं मिलता। इनकी पीर तू समझ और उस पीर को दूर कर।

उसने जल्दी ही गोश्त, मुर्गा, मछली का इंतजाम करवा दिया।

होटल के ग्राहक बढ़ने लगे।

मगर एक दिन फिर वही एक्जीक्यूटिव आया।

कहने लगा - हाँ, अब ठीक है। मांसाहार अच्छा मिलने लगा। पर एक बात है।

वैष्णव ने पूछा - क्या?

उसने जवाब दिया - गोश्त के पचने की दवाई भी तो चाहिए ।

वैष्णव ने कहा - लवण भास्कर चूर्ण का इंतजाम करवा दूँ?

एक्जीक्यूटिव ने माथा ठोंका।

कहने लगा - आप कुछ नहीं समझते। मेरा मतलब है - शराब। यहाँ बार खोलिए।

वैष्णव सन्न रह गया। शराब यहाँ कैसे पी जाएगी? मैं प्रभु के चरणामृत का प्रबंध तो कर सकता हूँ। पर मदिरा! हे राम!

दूसरे दिन वैष्णव ने फिर प्रभु से कहा - प्रभु, वे लोग मदिरा माँगते हैं| मैं आपका भक्त, मदिरा कैसे पिला सकता हूँ?

वैष्णव की पवित्र आत्मा से आवाज आई - मूर्ख, तू क्या होटल बैठाना चाहता है? देवता सोमरस पीते थे। वही सोमरस यह मदिरा है। इसमें तेरा वैष्णव-धर्म कहाँ भंग होता है। सामवेद में तिरसठ श्लोक सोमरस अर्थात मदिरा की स्तुति में हैं। तुझे धर्म की समझ है या नहीं?

उसने होटल में ‘बार’ खोल दिया।

अब होटल ठाठ से चलने लगा। वैष्णव खुश था।

फिर एक दिन एक आदमी आया। कहने लगा - अब होटल ठीक है। शराब भी है। गोश्त भी है। मगर मारा हुआ गोश्त है। हमें जिंदा गोश्त भी चाहिए।

वैष्णव ने पूछा - यह जिंदा गोश्त कैसा होता है?

उसने फिसलन क्या है? कहा - कैबरे, जिसमें औरतें नंगी होकर नाचती हैं।

वैष्णव ने कहा - अरे बाप रे!

उस आदमी ने कहा - इसमें ‘अरे बाप रे’ की कोई बात नहीं। सब बड़े होटलों में चलता है। यह शुरू कर दो तो कमरों का किराया बढ़ा सकते हो।

वैष्णव ने कहा - मैं कट्टर वैष्णव हूँ। मैं प्रभु से पूछूँगा।

दूसरे दिन फिर वैष्णव प्रभु के चरणों में था। कहने लगा - प्रभु, वे लोग कहते हैं कि होटल में नाच भी होना चाहिए। आधा नंगा या पूरा नंगा।

वैष्णव की शुद्ध आत्मा से आवाज आई - मूर्ख, कृष्णावतार में मैंने गोपियों को नचाया था। चीर-हरण तक किया था। तुझे क्या संकोच है?

प्रभु की आज्ञा से वैष्णव ने ‘कैबरे’ भी चालू कर दिया।

अब कमरे भरे रहते थे - शराब, गोश्त और कैबरे।

वैष्णव बहुत खुश था। प्रभु की कृपा से होटल भरा रहता था।

कुछ दिनों बाद एक ग्राहक ने बेयरे से कहा - इधर कुछ और भी मिलता है?

बेयरे ने पूछा - और क्या साब?

ग्राहक ने कहा - अरे यही मन बहलाने को कुछ? कोई ऊँचे किस्म का माल मिले तो लाओ।

बेयरा ने कहा - नहीं साब, इस होटल में यह नहीं चलता।

ग्राहक वैष्णव के पास गया। बोला - इस होटल में कौन ठहरेगा? इधर रात को मन बहलाने का कोई इंतजाम नहीं है।

वैष्णव ने कहा - कैबरे तो है, साहब।

ग्राहक ने कहा - कैबरे तो दूर का होता है। बिलकुल पास का चाहिए, गर्म माल, कमरे में।

वैष्णव फिर धर्म-संकट में पड़ गया।

दूसरे दिन वैष्णव फिर प्रभु की सेवा में गया। प्रार्थना की - कृपानिधान! ग्राहक लोग नारी माँगते हैं - पाप की खान। मैं तो इस पाप की खान से जहाँ तक बनता है, दूर रहता हूँ। अब मैं क्या करूँ?

वैष्णव की शुद्ध आत्मा से आवाज आई - मूर्ख, यह तो प्रकृति और पुरुष का संयोग है। इसमें क्या पाप और क्या पुण्य? चलने दे।

वैष्णव ने बेयरों से कहा - चुपचाप इंतजाम कर दिया करो। जरा पुलिस से बचकर, पच्चीस फीसदी भगवान की भेंट ले लिया करो।

PAK में टेरर कैंपों पर भारतीय एक्शन के बीच शेयर बाजार धड़ाम

भारतीय सेना के पाकिस्तान पर कड़ी कार्रवाई की वजह से विदेशी निवेशक सहम गए हैं.

शेयर बाजार धड़ाम

aajtak.in

  • नई दिल्ली,
  • 26 फरवरी 2019,
  • (अपडेटेड 26 फरवरी 2019, 5:40 PM IST)

पाकिस्तान स्थित आतंकवादी ठिकानों पर भारतीय वायुसेना के हमला करने से निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई और मंगलवार को सेंसेक्स 240 अंक टूट गया. कारोबार के दौरान सेंसेक्स एक समय करीब 500 अंक टूट गया था. हालांकि बाद में सेंसेक्स में रिकवरी देखी गई और 239.67 अंक लुढ़क कर 35,973.71 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान यह एक समय 35,714.16 अंक के निचले स्तर पर आ गया था. जबकि निफ्टी भी 44.80 अंक लुढ़क कर 10,835.30 अंक पर बंद हुआ. इससे पहले सेंसेक्स सुबह 237.63 अंकों की गिरावट के साथ 35,975.75 पर जबकि निफ्टी 104.8 अंकों की कमजोरी के साथ 10,775.30 पर खुला. कारोबार के शुरुआती घंटों के दौरान यह फिसलन 300 अंकों तक चली गई.

क्या है गिरावट की वजह

दरअसल, भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव को देखते हुए विदेशी निवेशकों को दोनों देशों के बीच जंग के हालात की आशंका है. यही वजह है कि विदेशी निवेशक, निवेश से पहले सतर्क हैं. इससे पहले सोमवार को विदेशी और घरेलू संस्थागत निवेशकों की भारी खरीददारी की वजह से सप्‍ताह के पहले कारोबारी दिन भारतीय शेयर बाजार में 300 से ज्‍यादा अंकों की तेजी देखने को मिली थी. सोमवार को सेंसेक्स 36,213.38 अंक पर बंद हुआ जबकि निफ्टी 10,880.10 के स्‍तर पर रहा.

एशियाई बाजारों का हाल

वहीं एशियाई बाजारों में जापान का निक्की 0.20 फीसदी, हांग कांग का हैंग सेंग 0.49 फीसदी, ताईवान का शेयर बाजार 0.14 फीसदी और दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.19 फीसदी की गिरावट में चल रहा था.

रुपये में फिसलन

वहीं सप्ताह के दूसरे फिसलन क्या है? कारोबारी दिन आयातकों की डॉलर मांग आने से रुपये में फिसलन देखी गई. अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में रुपया शुरुआती कारोबार में 33 पैसे टूटकर 71.30 रुपये प्रति डॉलर पर आ गया. इससे पहले सोमवार को रुपया 17 पैसे मजबूत होकर 70.97 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था.

वायुसेना ने पाकिस्तान पर

बता दें कि भारत ने मंगलवार तड़के पाकिस्तान के भीतर हवाई हमले कर कई आतंकवादी शिविरों को निशाना बनाया है. इस कार्रवाई में 300 से ज्यादा आतंकियों के ढेर होने की संभावना है. दिलचस्प बात यह है कि पाकिस्तान की ओर से खुद इस हमले की जानकारी दी गई है. हालांकि पाकिस्तान इसे भारत की नाकाम ऑपरेशन कहा जा रहा है.

सड़क पर फिसलन से भिड़े टैक्टर-ट्रॉला, कई घायल

बेमौसम बरसात के चलते राधाकुंड बाईपास रोड पर दल-दल व कीचड़ से कई वाहन फिसलकर आपस में भिड़ गये। इसके चलते कई लोग गंभीर घायल हो.

सड़क पर फिसलन से भिड़े टैक्टर-ट्रॉला, कई घायल

बेमौसम बरसात के चलते राधाकुंड बाईपास रोड पर दल-दल व कीचड़ से कई वाहन फिसलकर आपस में भिड़ गये। इसके चलते कई लोग गंभीर घायल हो गये। हादसे के बाद पुलिस ने धीमी गति के लिए बैरियर लगाये हैं।

बुधवार से गुरुवार सुबह तक राधाकुंड बाइपास मार्ग पर कोन्हई रोड क्रोसिंग व सुरभि गोशाला के समीप तीन वाहन पलट गये। गुरुवार सुबह ट्रैक्टर-ट्रॉला-ट्रक अनियंत्रित हो आपस में भिड़ गये। इसके चलते ट्रक चालक गंभीर रूप से घायल हो गया। बताते हैं कि सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायल चालक दीपक कुमार निवासी गांव गीजौली अलीगढ़ को उपचार को भर्ती कराया। तभी दोपहर 12 बजे टाटा इंडिगो व मैक्स पिकप आपस में टकरा गई, गनीमत रही कि इसमें सवार किसी के चोट नहीं लगी। फिसलन क्या है? दोनों गाड़ियां बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गयीं। बताते चलें कि इससे पूर्व ईको अनियंत्रित होकर पलट गई। बताते हैं कि सड़क पर गोबर व चारा डालने से भी आये दिन वाहन टकरा रहे हैं। चौकी प्रभारी राधाकुंड राघवेन्द्र सिंह चौहान ने बताया कि दुर्घटना के बाद सड़क से वाहनों को हटवा दिया गया है। गोशाला संचालक से सड़क से अवरोध हटाने को कहा गया है। फिसलन के कारण वाहनों की गति धीमी गति करने के लिए वैरियर लगाये गये हैं।

रोड किनारे गोबर, चारे से अतिक्रमण, हादसे भी

राधाकुंड बाईपास पर सड़क के किनारे काफी दूर तक गोशाला का गोबर डाल दिया गया गया है। इतना ही नहीं चारा भी पड़ा रहता है। इसके चलते वाहनों को निकलने में असुविधा ही नहीं होती, बल्कि वाहन हादसे के भी शिकार होते रहते हैं। इसको लेकर आसपास के लोगों में सड़क किनारे गोशाला का चारा व गोबर डाले जाने का विरोध जताया है। पुलिस के हस्तक्षेप के बाद सड़क पर फैली गंदगी को गोशाला संचालिका ने साफ कराया है।

फिसलन के विश्लेषणात्मक वायु-सूजन शाफ्ट का सिद्धांत और लक्षण क्या है?

Slitting मशीन यांत्रिक उद्यमों के मुख्य स्वतंत्र उपकरणों में से एक है। इसके कार्य का प्रदर्शन और अंतर सीधे उत्पाद की गुणवत्ता और उत्पादन क्षमता के स्तर को दर्शाता है। मशीन पर रील का कार्य निर्धारित करता है कि स्लीटर का कार्य अच्छा और बुरा है। वर्तमान में, चीन के मशीनरी उद्यमों द्वारा उपयोग की जाने वाली अधिकांश स्लाटिंग मशीनों में यांत्रिक पर्ची शाफ्ट और साधारण एयर शाफ्ट हैं, और स्लिप एयर शाफ्ट का उपयोग कम किया जाता है। नीचे हम गैस शाफ्ट निर्माता का परिचय देते हैं:
मैकेनिकल स्लिप शाफ्ट में तीन भाग होते हैं: ऑप्टिकल एक्सिस और स्लिप स्लीव और कम्प्रेशन स्प्रिंग एडजस्टमेंट मैकेनिज्म। कार्य सिद्धांत शाफ्ट के दोनों सिरों पर वसंत समायोजन तंत्र के दबाव बल को दबाकर शाफ्ट पर प्रत्येक स्लिप आस्तीन की टोक़ बल फिसलन क्या है? को समायोजित करना है। क्योंकि संरचना यह है कि शाफ्ट के दोनों सिरों से यांत्रिक दबाव प्रेषित होता है, प्रत्येक स्लिप स्लीव का दबाव एकसमान नहीं होता है, इसलिए प्रत्येक स्लिप आस्तीन के टॉर्क फिसलन क्या है? बल को सामग्री के लिए आवश्यक तनाव के परिवर्तन के साथ पूरी तरह से समायोजित नहीं किया जा सकता है परिवर्तन, स्लिप स्लीव सापेक्ष फिसलन ठीक नहीं है, और यह अनियमित घुमावदार, टूटी हुई फिसलन क्या है? स्ट्रिप्स, ढीले रोल और अनइंडिंग का उत्पादन करने में आसान है, जिसके परिणामस्वरूप सामग्री की हानि होती है। घुमावदार गति कम है। दबाव को समायोजित करते समय, इसे रोका जाना चाहिए और कार्य कुशलता को प्रभावित करने के लिए समायोजित किया जाना चाहिए।
मुद्रास्फीति शाफ्ट एक विशेष प्रकार की वाइंडिंग और अनइंडिंग है, यानी, शाफ्ट, जो उच्च दबाव के बाद बाहरी सतह द्वारा उठाया जा सकता है, फुलाया जाता है, और शाफ्ट जिसका बाहरी हिस्सा (चाबी की पट्टी का जिक्र) तेजी से विक्षेपण के बाद पीछे हट जाता है गैस कहा जाता है। विस्तार अक्ष। स्लिटर के वर्गीकरण को वायवीय शाफ्ट, संकुचन शाफ्ट, मुद्रास्फीति शाफ्ट, मुद्रास्फीति रोलर, मुद्रास्फीति शाफ्ट, दबाव शाफ्ट और मुद्रास्फीति रोलर भी कहा जाता है।

3inch air shaft pictures (5) 拷贝

वायु विस्तार शाफ्ट और वायु विस्तार आस्तीन अत्यंत सुविधाजनक और उपयोग करने के लिए त्वरित है। केवल स्व-तैयार वायु स्रोत की आवश्यकता है। हवा का दबाव 6-8 किग्रा / सेमी 2 की सीमा के भीतर नियंत्रित होता है। जब बाहरी घटकों (जैसे कि एक परिपत्र कागज ट्यूब) को लॉक करने की आवश्यकता होती है, तो मुद्रास्फीति के शाफ्ट पर एयर नोजल को फुलाकर केवल inflatable हैंडल को पूरा किया जा सकता है, और कुंजी बार बाहरी घटक (जैसे एक परिपत्र कागज) के खिलाफ फैल जाएगा ट्यूब)। जब कागज को उतार दिया जाता है, तो हवा के नोजल पर फिसलने को हाथ से दबाया जाता है। वायु कोर को विक्षेपित किया जाता है, कुंजी पट्टी अपने मूल स्वरूप में वापस आ जाएगी, और बाहरी भागों (जैसे कि एक परिपत्र पेपर ट्यूब) को बाहर निकाला जा सकता है।

वायु विस्तार अक्ष का वर्गीकरण: मुद्रास्फीति अक्ष को एक उभड़ा प्रकार वायु विस्तार शाफ्ट, एक प्लेट प्रकार वायु विस्तार शाफ्ट, एक एल्यूमीनियम मिश्र धातु वायु विस्तार शाफ्ट, एक गैस कील शाफ्ट और इसी तरह से विभाजित किया गया है।

1. फुलाते हुए ऑपरेशन का समय कम है, मुद्रास्फीति शाफ्ट और पेपर ट्यूब को अलग किया जाता है और मुद्रास्फीति और अपस्फीति को पूरा करने के लिए केवल 3 सेकंड में रखा जाता है, और शाफ्ट छोर पर किसी भी हिस्से को अलग करने के लिए कसकर संलग्न होने के लिए आवश्यक नहीं है कागज ट्यूब।

2. पेपर ट्यूब को बस रखा जाता है: मुद्रास्फीति और अपस्फीति की क्रिया में, पेपर ट्यूब को शाफ्ट की सतह पर किसी भी स्थिति में स्थानांतरित और तय किया जा सकता है।
3, असर वजन बड़ा है: ग्राहक की व्यावहारिक जरूरतों के अनुसार, शाफ्ट व्यास के आकार का निर्धारण करने के लिए, और उच्च-कठोर स्टील का उपयोग, ताकि इसका भार असर बढ़े।

4, उच्च आर्थिक दक्षता: शाफ्ट का डिज़ाइन एक विशेष कार्य है, मोटी, पतली, चौड़ी और संकीर्ण के लिए सभी प्रकार के पेपर ट्यूब लगाए जा सकते हैं।

5, सरल रखरखाव, लंबे समय का उपयोग करें: inflatable शाफ्ट एक ही हिस्सा है, संरचना के प्रत्येक भाग का एक निश्चित विनिर्देश है, इसका उपयोग परस्पर किया जा सकता है, ताकि इसे मरम्मत की जा सके।

इसलिए, मैकेनिकल स्लिप अक्ष को हल किया जाता है, और आम वायु-विस्तार शाफ्ट के घुमावदार होने के दौरान सामग्री की मोटाई की असमानता के कारण टूटी हुई स्ट्रिप्स, ढीले रोल, अनइंडिंग आदि की समस्या से बचा जाता है, जिससे परहेज किया जाता है। जिससे सामग्री का नुकसान हुआ। और एकीकृत पर्ची एयर शाफ्ट पर एक ही समय में बड़े और छोटे रोल एकत्र कर सकते हैं। घुमावदार गति अधिक है। क्योंकि हवा के दबाव को बिना रुके समायोजित किया जा सकता है, मशीन अनुकूलनशीलता और कार्य क्षमता में बहुत सुधार होता है।

क्या आप केले के छिलके खा रहे हैं? विज्ञान फिसलन है

कोई भी केला छील क्यों खाएगा? एक बार कार्टून पर्ची और गिरावट चुटकुले के बट के बाद, कम केला छील अब एक स्वास्थ्य elixir के रूप में प्रचारित किया जा रहा है.

क्लोज़ अप on young woman peeling banana

सिर्फ इसलिए कि कुछ पोषक तत्वों का मतलब यह नहीं है कि आपका शरीर उन्हें अवशोषित कर सकता है. Shutterstock

“केले के छिलके खाने” को देखो और कई लेख छील की पौष्टिक सामग्री के गुणों को बढ़ाते हैं.

आप पाएंगे: “केला पील खाने से आपको बेहद स्वस्थ बना दिया जाएगा”; “छील को मत भूलना”; और “केला छील पोषण।” केले के छिलके को अनिद्रा और अवसाद का इलाज करने के लिए कहा जाता है, अपने कोलेस्ट्रॉल को कम करें, अपने दिल की रक्षा करें और अपनी आंखों का लाभ उठाएं.

समस्या यह है कि दावों का समर्थन करने के लिए विज्ञान, यदि कोई है, तो विज्ञान है.

कॉर्नेल विश्वविद्यालय में पोषण और मनोविज्ञान के प्रोफेसर डेविड लेविट्स्की कहते हैं, “लोग हमेशा जादुई भोजन की तलाश में रहते हैं।” “यह इस विचार के साथ है कि सभी खुशी की जड़ भोजन में निहित है। भोजन आवश्यक है, लेकिन यह किसी भी समस्या का जादू जवाब नहीं है। “

पोषण विशेषज्ञों का कहना है कि केला छील में कई रोचक पोषक तत्व हैं, लेकिन मात्रा कम है और, सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कोई अध्ययन नहीं दिखा रहा है कि हमारे शरीर वास्तव में उन्हें अवशोषित कर सकते हैं.

लेविस्की बताते हैं, “सिर्फ इसलिए कि पोषक तत्व वहां है इसका मतलब यह नहीं है कि आप इसका उपयोग कर सकते हैं।”.

और फिर स्वाद का मुद्दा है। एक पोषण परामर्शदाता और सक्रिय भोजन सलाह के मालिक लेस्ली बोनसी कहते हैं, केले के छिलके सिर्फ अच्छे स्वाद नहीं लेते हैं। “वे कड़वा हैं और वे बहुत चबाने वाले हैं।” इसके अलावा, छील की क्रूरता की समस्या है। बोनसी का कहना है कि आप एक चिकनी के लिए उन्हें शुद्ध करने में सक्षम नहीं होंगे जब तक कि आपके पास सुपर हाई-पावर ब्लेंडर न हो.

दावों के लिए कि दुनिया के अन्य हिस्सों में लोग पूरे फल, छील और सब खाते हैं, केले विशेषज्ञ दान कोएपेल असहमत.

“केला: द फेट ऑफ द फ्रूट द वर्ल्ड द चेंज” के लेखक कोएपेल कहते हैं, “मैंने करीब 15 वर्षों तक केले का अध्ययन किया है और हर महाद्वीप की यात्रा की है जहां केले उगाए जाते हैं और मैंने कभी भी किसी को छील नहीं देखा है।”

“आगे बढ़ें और Google ‘बंदर एक केले खा रहा है,’ और आप देखेंगे कि यहां तक ​​कि अधिकांश बंदर इसे खाने से पहले केला छील रहे हैं। यदि बंदर इसे समझने के लिए पर्याप्त स्मार्ट हैं, तो हमें भी होना चाहिए, “कोएपेल कहते हैं.

तो, केले के छील खाने के लिए क्या वैध कारण हैं?

मुख्य कारण है कि खाद्य अपशिष्ट से बचें, बोनसी का कहना है.

बेशक, यदि आप पर्यावरण के प्रति जागरूक होने की तलाश में हैं, तो अन्य धरती के अनुकूल तरीके हैं जो आप अपने केले के छिलके से अपशिष्ट से बच सकते हैं – जैसे कि उन्हें अपने खाद ढेर में फेंकना। कोपेपल कहते हैं, “केले पूरी तरह से कंपोस्टेबल हैं।” “वे दिनों में दूर चलेगा।”

यदि आप अभी भी अपनी चिकनी में केले के छिलके का प्रयास करने के लिए मर रहे हैं, तो शायद यह आपको चोट पहुंचाने वाला नहीं है.

सुबह पागलपन से बचें! तेजी से बाहर निकलने के लिए 2 मिनट की चिकनी और अन्य युक्तियाँ

Levitsky कहते हैं, “मैं देखता हूं कि एकमात्र नुकसान कीटनाशक है जो सतह पर जमा हो सकता है।” “तो अगर आप उन्हें सुबह में अपनी चिकनी में रखना चाहते हैं तो आपको इसकी खुराक मिल सकती है – अगर आप उन्हें वास्तव में अच्छी तरह से धो नहीं देते हैं।”

लेकिन अपने स्वाद कलियों को खुशी के लिए कूदने की उम्मीद न करें.

Levitsky कहते हैं, “अगर आप तरबूज rinds प्यार करता हूँ, तो आप केला peels प्यार करने जा रहे हैं।”.

लिंडा कैरोल एनबीसीएन्यूज डॉट कॉम और TODAY.com में नियमित योगदानकर्ता है। वह “द कंस्यूशन क्राइसिस: एनाटॉमी ऑफ़ ए मूक एपिडेमिक” के सह-लेखक हैं और हाल ही में प्रकाशित “ड्यूएल फॉर द क्राउन: एफ़र्ड, एलिडर, और रेसिंग्स ग्रेटेस्ट रिवाइवल”।

रेटिंग: 4.28
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 159
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *