ट्रेडिंग विचार

लहर मूल्य विश्लेषण

लहर मूल्य विश्लेषण
सूत्रों ने बृहस्पतिवार को बताया था कि अप्रैल के पहले पखवाड़े में दिल्ली से लिए गए अधिकांश नमूनों में ओमीक्रॉन के उप-प्रकार बीए.2.12 का पता चला है और यह शहर में कोविड​​​​-19 के मामलों में हालिया उछाल के पीछे का कारण हो सकता है.

Third Covid wave : देश में कोरोना की तीसरी लहर शुरू हो गई या दूसरी समाप्त ही नहीं हुई? एक्सपर्ट्स लहर मूल्य विश्लेषण भी उलझन में

हरियाणा स्थित अशोक विश्वविद्यालय में भौतिक शास्त्र और जीविज्ञान विभाग में प्रोफेसर गौतम मेनन ने कहा, उदाहरण के लिए पूर्वोत्तर राज्यों में मामले न्यूनतम स्तर पर नहीं गए जैसा कि दिल्ली और अन्य उत्तरी राज्यों में लहर मूल्य विश्लेषण देखने को मिला। उन्होंने कहा, ‘इस प्रकार, संभव है कि हम दूसरी लहर की निरंतरता को देख रहे हैं बजाय कि नई कोविड-19 लहर की शुरुआत होने की।’

चेन्नई स्थित इंस्टिट्यूट ऑफ मैथमेटिकल साइसेंज के रिसर्चर्स ने नवीनतम विश्लेषण लहर मूल्य विश्लेषण के मुताबिक सात मई के बाद पहली बार भारत में ‘आर’ संख्या यानी RO वैल्यू या R फैक्टर (एक संक्रमित के जरिए दूसरे लोगों को संक्रमित करने की संभावना संख्या में) एक को पार कर गई है।

महामारी की लहर मूल्य विश्लेषण शुरुआत से ही ‘आर’ वैल्यू पर नजर रख रहे चेन्नई स्थित इंस्टिट्यूट ऑफ मैथमेटिकल साइसेंज के रिसर्चर सीताभ्र सिन्हा ने कहा कि यह चिंताजनक स्थिति है कि आर वैल्यू लहर मूल्य विश्लेषण किसी एक क्षेत्र में मामले बढ़ने से नहीं बढ़ी है बल्कि कई राज्यों में ‘आर’ वैल्यू एक से अधिक हो गई है।

दिल्ली में हर कोरोना पीड़ित व्यक्ति दो लोगों को कर रहा संक्रमित: IIT मद्रास का विश्लेषण

आईआईटी मद्रास | फेसबुक

नई दिल्ली: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मद्रास द्वारा किए गए एक विश्लेषण के अनुसार दिल्ली का ‘आर-मूल्य’, जो कोविड-19 के प्रसार का संकेत देता है, इस सप्ताह 2.1 दर्ज किया गया. इसका अर्थ है कि राष्ट्रीय राजधानी में कोरोनावायरस से संक्रमित प्रत्येक व्यक्ति दो अन्य लोगों को संक्रमित कर रहा है.

‘आर’ यानी प्रजनन मूल्य इंगित करता है कि एक संक्रमित व्यक्ति अन्य कितने व्यक्तियों को संक्रमित कर सकता है. यदि यह एक से लहर मूल्य विश्लेषण नीचे चला जाता है तो इसे महामारी की समाप्ति मान लिया जाता है.

कम्प्यूटेशनल मॉडलिंग द्वारा प्रारंभिक विश्लेषण आईआईटी-मद्रास के गणित विभाग और सेंटर ऑफ एक्सीलेंस फॉर कम्प्यूटेशनल मैथमेटिक्स एंड डेटा साइंस द्वारा किया गया था, जिसकी अध्यक्षता प्रोफेसर नीलेश एस उपाध्याय और प्रोफेसर एस सुंदर ने की थी.

Lafjo Ki Lahar / लफ्जों की लहर पेपरबैक – 8 जुलाई 2021

पे ऑन डिलीवरी (कैश/कार्ड) भुगतान विधि में आपके घर पर ही कैश ऑन डिलीवरी (COD) के साथ ही साथ डेबिट कार्ड / क्रेडिट कार्ड / नेट बैंकिंग भुगतान शामिल हैं.

रिप्लेसमेंट कारण रिप्लेसमेंट अवधि रिप्लेसमेंट पॉलिसी
खराब,
शारीरिक क्षति,
गलत और अनुपलब्ध आइटम
डिलीवरी से 10 दिन रीप्लेसमेंट

रिप्लेसमेंट संबंधी निर्देश

एक सफल पिकअप के लिए आइटम को उसकी मूल स्थिति और पैकेजिंग में रखें, जिसमें MRP टैग लगे हों और एक्सेसरीज़ साथ हों.

इस प्रोडक्ट की डिलीवरी सीधे Amazon की तरफ़ से की जाती है. आप डिलीवरी को घर पहुंचने तक ट्रैक कर सकते हैं.

अपनी खरीद बढ़ाएं

hello friends, I want to tell all of you the book which I have written named 'Lafjo Ki Lahar' contains लहर मूल्य विश्लेषण many romantic shayaris. In this book you will find लहर मूल्य विश्लेषण out the world of romantic shayaris. If you are a reader of romantic shayari you must read this book at least once.

खास ऑफ़र और प्रोडक्ट प्रमोशन

  • City Union Bank मास्टरकार्ड डेबिट कार्ड Trxns पर INR 300 तक 10% इंस्टेंट डिस्काउंट। न्यूनतम Trxn मूल्य INR 350 इस तरह
  • एचएसबीसी कैशबैक कार्ड क्रेडिट कार्ड लेनदेन पर INR 250 तक 5% तत्काल छूट। न्यूनतम खरीद मूल्य INR 1000 इस तरह
  • कोई लागत ईएमआई का चयन कार्ड पर उपलब्ध. अधिक जानकारी के लिए ऊपर 'ईएमआई विकल्प' की जांच करें। इस तरह
  • जीएसटी चालान प्राप्त करें और व्यापार खरीद पर 28% तक बचाएं। मुफ्त में साइन अप करेंइस तरह
  • जीएसटी चालान प्राप्त करें और व्यापार खरीद पर 28% तक बचाएं। मुफ्त में साइन अप करेंइस तरह
  • प्रकाशक ‏ : ‎ Notion Press; 1 संस्करण (8 जुलाई 2021)
  • भाषा ‏ : ‎ हिंदी
  • पेपरबैक ‏ : ‎ 36 पेज
  • ISBN-10 ‏ : ‎ 1639972455
  • ISBN-13 ‏ : ‎ 978-1639972456
  • आइटम का वज़न ‏ : ‎ 50 g
  • आकार ‏ : ‎ 20.3 x 25.4 x 4.7 cm
  • कंट्री ऑफ़ ओरिजिन ‏ : ‎ भारत

सावधान ! दिल्ली में हर कोरोना पीड़ित व्यक्ति दो लोगों को कर रहा है संक्रमित : स्टडी

Edited by: IndiaTV Hindi Desk
Updated on: April 23, 2022 14:21 IST

Covid19 Test- India TV Hindi

Image Source : PTI Covid19 Test

नयी दिल्ली: आईआईटी मद्रास द्वारा किए गए एक विश्लेषण के अनुसार दिल्ली का ''आर-वैल्यू'', जो कोविड-19 के प्रसार का संकेत देता है, इस सप्ताह 2.1 दर्ज किया गया। इसका अर्थ है कि राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस से संक्रमित प्रत्येक व्यक्ति दो अन्य लोगों को संक्रमित कर रहा है। ''आर'' यानी प्रजनन मूल्य इंगित करता है कि एक संक्रमित व्यक्ति अन्य कितने व्यक्तियों को संक्रमित कर सकता है। यदि यह एक से नीचे चला जाता है तो इसे महामारी की समाप्ति मान लिया जाता है।

A farmer in Bundelkhand. Photo: Nirmal Yadav

A farmer in Bundelkhand. Photo: लहर मूल्य विश्लेषण Nirmal Yadav

एक तरफ किसानों का फसलों के लिए न्यूनतम लहर मूल्य विश्लेषण समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी की मांग को लेकर आंदोलन जारी है। वहीं, दूसरी तरफ सरकार ने 8 सितंबर, 2021 को रबी विपणन सीजन (आरएमएस) 2022-23 के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को बढ़ाने की मंजूरी दी है। लेकिन सवाल यही है कि रबी की जिन फसलों पर एमएसपी बढ़ाई गई है क्या वह मौजूदा लागत के साथ किसानों के लिए लाभकारी होगा? कृषि विशेषज्ञों की नजर में एमएसपी का यह बढ़ावा लाभकारी नहीं है, बल्कि यह किसानों की लागत नहीं निकाल पाएगा।

08 सितंबर, 2021 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति ने रबी विपणन सीजन (आरएमएस) 2022-23 के लिये सभी रबी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में बढ़ोतरी करने को मंजूरी दी। जिसमें सबसे कम बढोत्तरी गेहूं में 40 रुपए और जौ में 35 रुपए की गई है।

रेटिंग: 4.70
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 84
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *